हैदराबाद : आंध्र प्रदेश में विपक्षी दल के नेता और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगन मोहन रेड्डी की प्रजा संकल्प यात्रा को आज एक साल पूरा हुआ है। आपको बता दें कि वाईएस जगन ने 6 नवंबर 2017 को वाईएसआर कडपा जिले के इडुपुला पाया से पदयात्रा आरंभ की थी। उस समय विपक्ष के नेता ने कहा था, "प्रदेश में जारी भंयकर हालत और मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायुडू की नीति से मुश्किलों में जी रहे लोगों को भरोसा देते हुए कदम आगे बढ़ रहा हूं।"

वाईएस जगन की प्रजा संकल्प यात्रा का दौर
वाईएस जगन की प्रजा संकल्प यात्रा का दौर

वाईएस जगन ने इन 12 महीने में 11 जिलों की पदयात्रा पूरी करके 12वें जिले में कदम रखा है। इस दौरान लोगों की समस्याओं को जानने और लोगों से मिलने की सर्वत्र प्रशंसा हो रही है।

इसे भी पढ़ें :

वाईएस जगन ने देशवासियों को दी दिवाली की शुभकामनाएं

“मैं जख्म से निजात पा रहा हूं, जल्द ही दोबारा शुरू करूंगा पदयात्रा ”, YS जगन

जुनून

इस दौरान वाईएस जगन ने पदयात्रा के पहले दिन कहा था, "मुझे चंद्रबाबू की तरह धन की लालसा नहीं है। किसी भी मामले से डरने वाला नहीं हूं। मुझे सिर्फ एक जुनून है। वह जुनून है मेरे मरने के बाद भी हर गरीब के दिलों में जीवित रहूं। मुझमें जुनून है कि प्रदेश के लोगों के परिवारों में खुशियां बांटू। इसीलिए प्रदेश और प्रदेश के लोगों को अच्छा करूंगा। मुझमें जुनून है कि आंध्र प्रदेश को विकसित करना।

हत्या का प्रयास

वाईएसआर कडपा जिले में आरंभ हुई पदयात्रा कर्नूल, अनंतपुर, चित्तूर, नेल्लूर, प्रकाशम, गुंटूर, कृष्णा, पूर्वी गोदावरी, पश्चिमी गोदावरी, विशाखापट्टनम जिलों में से होते हुए इस समय विजयनगरम जिले में जारी है। इसी क्रम में गत 25 अक्टूबर को हैदराबाद के लिए रवाना होने के दौरान विशाखा एयरपोर्ट में हत्या का प्रयास किया गया। इस घटना में गंभीर से घायल हो गये। डॉक्टरों के सुझाव के अनुसार वाईएस जगन इस समय आराम कर रहे है। जल्द से जल्द लोगों के बीच जाने की तैयार में है।

नवरत्नालु

वाईएस जगन ने आरोग्यश्री, फीस पुनर्भुगतान, मकान, 108 सेवा जैसे अनेक योजनाओं का श्री गणेश करके पूरे देश में योजनाओं की क्रांति ले आने वाले दिवंगत मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी के कदमों में कदम मिलाते हुए दो कदम और आगे ले जाने के लिए 'नवरत्नालु' योजना की घोषणा की। इसी नवरत्नालु के बारे में लोगों को बताने हुए प्रजा संकल्प यात्रा के साथ आगे बढ़ रहे है।

पदयात्रा में देरी

सच में कहा जाए तो इडुपुलपाया से इच्चापुरम तक के लिए शुरू हुई पदयात्रा को 6-7 महीने में खत्म करना था। मगर पदयात्रा के दौरान लोगों से मिल रहे प्रतिसाद को देखते हुए आगे बढ़ना काफी मुश्किल होता जा रहा है। इसीलिए 12 जिलों की पदयात्रा पूरी होने के लिए एक साल का समय लगा। अब और डेढ़ महीने का समय लगने की संभावना है। वाईएस जगन जहां भी जाते है, वहां पर लोग जोरदार स्वागत कर रहे हैं। आमसभा में तो लाखों लोग आ रहे हैं। इसी के चलते पदयात्रा में देरी हो रही है।

3200 KM पदयात्रा

वाईएस जगन ने अबतक 3200 किलोमीटर की पदयात्रा पूर्ण की है। इस दौरान अनेक जन संगठन और स्थानीय लोग वाईएस जगन से मिल रहे है। वाईएस जगन मात्र जो बस में है वो ही आश्वासन दे रहे है। लोगों का मानना है कि जो आश्वासन वाईएस जगन देते है वो करके दिखाते है। इसी भरोसा के साथ वाईएस जगन से मिलने के बाद खुशी से वापस लौ रहे है।

अपार भीड़ और सेल्फी

दूसरी ओर वाईएस जगन जहां भी जा रहे है। लोगों की अपार भीड़ होती है। जगन से मिलने वाले में अनेक महिलाएं और युवक सेल्फी लेने में काफी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। अब तक लाखों लोगों ने वाईएस जगन के साथ सेल्फी ले चुके है। इसी क्रम में वयोवृद्ध लोग तो खुद का नाता-पोता उनके पास चलकर आया मानकर आशीर्वाद दे रहे हैं।