बड़े पैमाने पर प्रचार-प्रसार करना और राजनीति स्वार्थ के लिए निधियों को स्वाहा करना कहां का न्याय है, चंद्रबाबू जी