Wed Aug 22, 2018 Telugu English E-Paper Education
Praja Sankalpa Yatra

मुख्य समाचार

 242वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग कर रही हैं महिलाएं

242वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग कर रही हैं महिलाएं

पहाड़ी इलाका यहां तक कि सेलफोन के सिग्नल तक नहीं पहुंच पाने वाले गांवों में आज मेरी पदयात्रा चली। सुबह शिविर पर एक ही परिवार की सात बहनें आकर मुझसे मिलीं। सभी उच्चशिक्षा प्राप्त हैं और पिताजी उनके पसंदीदा नेता रहे। बताया कि पिताजी की भांति वे मेरा भी सम्मान करते हैं।

किसने क्या कहा?

बाबू के शासन में वृद्धों को नहीं मिल रहा पेंशन

‘किसानों के ऋण तो माफ होना तो दूर की बात है, यहां तो उसे वृद्धावस्था पेंशन तक नहीं दिया जा रहा है। बाबू के झूठे आश्वासनों के चक्कर में आए लोग अनेक समस्याओं का सामना कर रहे हैं।’ 

बाबू के शासन में वृद्धों को नहीं मिल रहा पेंशन
बाबू के शासन में वृद्धों को नहीं मिल रहा पेंशन
0 0
एक गरीब का आंध्र प्रदेश के  CM साहब से है यह सवाल    

अब इसका क्या जवाब दूं..मेरे से मरी ज ने कहा- “मैं गरीब हूं, बूढ़ा हूं, मेरे दोनों गुर्दे बेकार हो चुके हैं और इलाज के पैसे भी नहीं हैं..अब आप बोलिए जिन्दा रहूं तो कैसे ? मुख्यमंत्री का भेदभाव मेरी जान ले लेगा” 

एक गरीब का आंध्र प्रदेश के  CM साहब से है यह सवाल    
एक गरीब का आंध्र प्रदेश के CM साहब से है यह सवाल   
0 0
चंद्रबाबू जी ! अपने चुनावी घोषणा पत्र को करिए याद 

चुनावी घोषणा पत्र के पेज नंबर 25 में हर आदिवासी परिवार के लिए डायारिया, मलेरिया, डेंगू जैसी बीमारियों को स्वास्थ्य बीमा योजना के दायरे में लाने, आईटीडीए स्तर पर विशेष रूप से डीएमएचओ को नियुक्त करने, अतिरिक्त अस्पतालों की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया था। क्या आपको अपना यह वादा याद है ..?

चंद्रबाबू जी ! अपने चुनावी घोषणा पत्र को करिए याद 
चंद्रबाबू जी ! अपने चुनावी घोषणा पत्र को करिए याद 
0 0
सत्तारूढ़ दल है योजनाओं के प्रति लापरवाह, कापु समुदाय को भी कर रहा गुमराह

“आंध्र प्रदेश में सत्तारूढ़ दल ने योजनाओं की सफलता को लेकर जहां एक ओर लापरवाही की है, वहीं दूसरी ओर कापु समुदाय को गुमराह किया है।”

सत्तारूढ़ दल है योजनाओं के प्रति लापरवाह, कापु समुदाय को भी कर रहा गुमराह
सत्तारूढ़ दल है योजनाओं के प्रति लापरवाह, कापु समुदाय को भी कर रहा गुमराह
1 0
चंद्रबाबू के शासन में बदतर बनी है DCCB की स्थिति

पिताजी के मुख्यमंत्री बनने तक राज्य में चंद्रबाबू की बदौलत 18 DCCB दिवालिया उठने की स्थिति में थे। पिताजी ने वैद्यानाथन सिफारिशों पर अमल करते हुए लगभग 1,500 करोड़ रुपये का भुगतान कर सहकारिता क्षेत्र में फिर से नई जान फूंकी थी।

चंद्रबाबू के शासन में बदतर बनी है DCCB की स्थिति
चंद्रबाबू के शासन में बदतर बनी है DCCB की स्थिति
0 0

प्रजा संकल्प यात्रा वीडियो

View more

समाचार

 242वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग कर रही हैं महिलाएं

242वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग कर रही हैं महिलाएं

पहाड़ी इलाका यहां तक कि सेलफोन के सिग्नल तक नहीं पहुंच पाने वाले गांवों में आज मेरी पदयात्रा चली। सुबह शिविर पर एक ही परिवार की सात बहनें आकर मुझसे मिलीं। सभी उच्चशिक्षा प्राप्त हैं और पिताजी उनके पसंदीदा नेता रहे। बताया कि पिताजी की भांति वे मेरा भी सम्मान करते हैं।

More stories

Praja Sankalpa Yatra Gallery

View more