हैदराबाद : ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने आज प्रधानमंत्री के उन दावों को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि यह उनकी सरकार है जिसने मुस्लिम महिलाओं के लिये बिना महरम के हज करना संभव बनाया।

हैदराबाद के सांसद ने संवाददाताओं को बताया, यह नियमन (45 साल से अधिक की मुस्लिम महिलाएं बिना महरम के हज पर जा सकती हैं) सऊदी अधिकारियों ने कई साल पहले ही पारित कर दिया था। गौरतलब है कि पहले मक्का और मदीना में हज की यात्रा पर जाने के लिए महिलाओं को महरम की जरुरत होती थी।

ये भी पढ़े :

तीन तलाक पर आज राज्यसभा में पेश होगा बिल, कांग्रेस का स्टैंड तय नहीं

रजनीकांत ने जारी किया पार्टी का लोगो, मोबाइल एप व वेबसाइट, बताया- ऐसे जुड़ सकते हैं समर्थक

महरम में पति के अलावा परिवार के ऐसे सदस्य शामिल होते हैं जिनसे शादी नहीं हो सकती है। ओवैसी ने कहा, 45 साल से अधिक की महिलाएं समूहों में हज के लिये जा सकती हैं। मलेशिया, इंडोनेशिया और अरब देशों की महिलाएं हज के लिये जा रही हैं। प्रधानमंत्री हर मुद्दे पर श्रेय लेना चाहते हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कल अपने रेडियो संबोधन मन की बात में कहा था कि उनकी सरकार ने उन पाबंदियों को हटा दिया है कि महिला हज जायरीन के साथ कोई पुरष महरम अवश्य होना चाहिये।

इसके बाद सैकडों महिलाओं ने अकेले हज यात्रा करने के लिये आवेदन किया है। ओवैसी ने कहा, अल्लाह की करम से ताजमहल और चारमीनार पहले से बने हुए हैं, अन्यथा वह (मोदी) दावा करेंगे कि उन्होंने ही इन्हें बनाया है।