अमरावतीर: सत्ताधारी तेलुगू देशम पार्टी ने विपक्षी वाईएसआर कांग्रेस को झटका देते हुए आंध्र प्रदेश विधान परिषद के द्विवार्षिक चुनाव में स्थानीय प्राधिकारी निर्वाचन (एलएसी) की तीन सीटों पर जीत हासिल की है।

इसी के साथ हाल में एलएसी की नौ सीटों पर हुए चुनाव में तेदेपा ने सारी सीटों को जीत लिया है।

तेदेपा उम्मीदवारों ने कडप्पा, कर्नुल और एसपीएस नेल्लोर एलएसी सीटों पर वाईएसआरसी के प्रत्याशियों को शिकस्त दी। इन सीटों के लिए 17 मार्च को चुनाव हुआ था। मतों की गणना आज की गई।

इसी के साथ तेदेपा ने एलएसी श्रेणी की सभी नौ सीटों को जीत लिया, क्योंकि इसके उम्मीदवार छह एलएसी सीटों पर पहले निर्विरोध चुन लिए गए थे, जहां पर चुनाव पहले हुआ था। इनमें श्रीकाकुलम, पूर्वी गोदावरी, पश्चिम गोदावरी (दो सीटें), अनंतपुरमू और चित्तूर एलएसी सीट शामिल हैं।

एलएसी में पंचायती राज संस्थानों और शहरी स्थानीय निकायों के सदस्य मतदाता होते हैं।

वाईएसआरसी को सबसे बडा झटका कडपपा में लगा है जो कि इसका गढ़ है। यहां से इसके उम्मीदवार वाईएस विवेकानंद रेड्डी तेदेपा के बी. रवि से महज 34 वोटों से हारे हैं।

यह भी पढ़े:

AP एमएलसी चुनाव में चंद्रबाबू नायुडू ने की खरीदफरोख्त : वाईएस जगन मोहन रेड्डी

विवेकानंद वाईएसआरसी के अध्यक्ष वाईएस जगनमोहन रेड्डी के रिश्तेदार हैं और कई बार सांसद, विधान परिषद के सदस्य और विधायक रह चुके हैं।

वाईएसआरसी ने आरोप लगाया है कि सत्ताधारी पार्टी ने 200 करोड रुपये खर्च करके मतों को खरीदा है।

जगन ने कहा कि चंद्रबाबू (तेदेपा अध्यक्ष और मुख्यमंत्री) मतों को खरीदने के विशेषज्ञ बन गए हैं और यह उन्होंने इस चुनाव में दिखाया है।