इस्लामाबाद/नई दिल्ली : पाकिस्तान कुलभूषण जाधव भारतीय जासूस होने के अपने दावे से मुकर रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने जियो टीवी से बातचीत के दौरान कुलभूषण जाधव के भारतीय जासूस होने को लेकर पाकिस्तानी सरकार और एजेंसियों के पास पुख्ता सबूत नहीं होने की बात स्वीकार की है।

बलुचिस्तान में पकड़े कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान लगातार भारतीय जासूस बताता रहा है। हालांकि भारत सरकार लगातार कहती रही है कि कुलभूषण जाधव कारोबारी हैं और उनका ज्यादातर कारोबार ईराम में है। एक पाकिस्तानी चैनल का कहना है कि सरताज अजीज ने स्वीकार किया है कि कुलभूषण जाधव के बयान के अलावा ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं, जिससे ये साबित हो सके कि वह भारतीय जासूस है।

चैनल का यह भी दावा है कि अजीज ने ये भी कहा कि कुलभूषण के खिलाफ भारत को डोजियर देने के लिए पाकिस्तान के पास पर्याप्त सबूत नहीं हैं। उन्होंने पाकिस्तानी जांच एजेंसियों से कहा है कि वे कुलभूषण के खिलाफ सबूत जुटाएं। मालूम हो कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव का वीडियो जारी किया था, जिसमें स्वीकार रहा है कि वह बलूचिस्तान में आतंकी गतिविधियों में शामिल था।

हालांकि इस वीडियो को भारत ने पूरी तरह नकारते हुए आशंका जताई कि कुलभूषण को अगवा कर यह वीडियो तैयार किया गया है, जबकि पाकिस्तान आरोप लगाता रहा है कि कुलभूषण जाधव भारतीय जल सेना का अधिकारी है। साथ ही वह बलुचिस्तान में रॉ के लिए काम कर रहा था। यह भी आरोप है कि कुलभूषण राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) से भी जुड़ा था।