आंध्र की कोनेरू हम्पी ने जीता शतरंज का प्रतिष्ठित विश्व कैर्न्स कप, बनी वर्ल्ड नंबर 2

कोनेरु हम्पी अपने पति और बेटी के साथ  - Sakshi Samachar

नई दिल्ली: वर्ल्ड रैपिड चैम्पियन कोनेरु हम्पी ने दूसरे कैर्न्स कप में बाजी जीत कर वर्ल्ड नंबर दो रैंक पर कब्जा किया है। हम्पी ने नौ राउंड में छह प्वाइंट हासिल कर कैर्न्स कप हासिल किया। कोनेरू को विजेजा घोषित करने के बाद उन्हें पैंतालीस हजार डॉलर की नकद राशि का ईनाम दिया गया। 32 साल की कोनेरू को शह मात के इस खेल में महारत हासिल है। वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने के बाद कोनेरू ने न सिर्फ देश का नाम रौशन किया है। बल्कि शतरंज में और अधिक संभावनाओं को भी जन्म दिया है। कोनेरू वर्ल्ड नंबर वन बनने की दिशा में आगे बढ़ रही हैं।

31 मार्च 1987 को कोनेरू हंपी का जन्म आंध्र प्रदेश के गुडिवाडा में हुआ था। पिता अशोक कोनेरू भी चेस के माहिर खिलाड़ी रह चुके हैं। पिता का सपना था कोनेरू को वर्ल्ड चैम्पियन बनाने का, जिसे उन्होंने पूरा किया।

कभी पिता को शतरंज में हराने का सपना देखने वाली कोनेरू हंपी ने जीत ली दुनिया

कोनेरू अपने खेल भविष्य को लेकर उत्साहित हैं। रैपिड सेक्शन में विजेता बनने से पहले उन्होंने रूस की वैलेंटीना गुनिना को 35 चालों में हराया। इस जीत के बाद हम्पी 5.5 पॉइंट के साथ अपने ग्रुप में शीर्ष पर पहुंची थीं। वहीं हरिका द्रोणवल्ली ने लगातार तीसरा मैच ड्रॉ खेला है।

बता दें कि हाल ही में शतरंज की वैश्विक संस्था एफआईडीई ने द्वारा जारी रैंकिंग के महिला वर्ग के टॉप-10 में दो भारतीय खिलाड़ियों ने जगह बनाई थी। हम्पी के अलावा भारत की हरिका ने टॉप टेन खिलाड़ियों की लिस्ट में अपनी जगह काबिज रखी है।

Advertisement
Back to Top