टोक्यो : किसी भी खेल आयोजन के दौरान जितनी चर्चा मैदान में होने वाली घटनाओं की होती है, उससे कहीं अधिक चर्चा मैदान के बाहर होने वाली घटनाओं की होती है। सेक्स इनमें से एक प्रमुख घटना है।

अब टोक्यो ओलंपिक को ही लें। आयोजको ने इस साल खिलाड़ियों को रीसाइकिल्ड कार्डबोर्ड से बने बिस्तर मुहैया कराने का फैसला किया है और यही बात खिलाड़ियों के लिए चिंता का कारण बन गई है।

खेलों के दौरान खिलाड़ियों के बीच आपस में सेक्स सम्बंध बनते हैं और इन्हीं को ध्यान में रखकर खेल गांव में लाखों कंडोम वितरित किए जाते हैं। आयोजक खिलाड़ियों का पूरा ख्याल रखते हैं क्योंकि सेक्स को एक बहुत बड़ा स्ट्रेसबस्टर माना जाता है।

टोक्यो ओलंपिक के लिए आने वाले खिलाड़ियों ने कार्डबोर्ड के बिस्तरों को लेकर चिंता जाहिर की तो आयोजकों को यह कहना पड़ा कि ये बिस्तर कमजोर नहीं और सेक्स के दौरान टूटेंगे नहीं। हां, अगर एक ही बिस्तर पर तीन लोग सेक्स करने लग जाएं तो इसके न टूटने की कोई गारंटी नहीं।

मेल ऑनलाइन की रिपोर्ट के मुताबिक आयोजकों ने खिलाड़ियों को बिस्तरों के मजबूत होने की गारंटी दी है लेकिन साथ ही यह भी हिदायत दी है कि अगर एक बिस्तर का इस्तेमाल दो लोगों के लिए होगा तो ही इनके नहीं टूटने की गारंटी है।

इन बिस्तरों को बनाने वाली कम्पनी-एअरवीभ ने कहा है कि ये बिस्तर 200 किग्रा तक का वजन सहन कर सकते हैं, जो दो लोगों के वजन से अधिक होता है। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक इन बिस्तरों की मैट्रेस पॉलीथाइलीन मैटैरियल से बना है। ओलंपिक के बाद इनका प्लास्टिक प्रॉडक्ट्स के रूप में फिर से उपयोग में लाया जा सकेगा। ओलंपिक के लिए कुल 18 हजार बिस्तरों की जरूरत है जबकि पैरालंपिक के लिए 8 हजार बिस्तरों की जरूरत होगी।

इसे भी पढ़ें :

भारत को तगड़ा झटका, IOC ने ओलंपिक प्रतियोगिता की मेजबानी पर लगाई रोक

एक खिलाड़ी ने इन बिस्तरों के टूटने को लेकर जब आशंका जाहिर की तो आयोजकों ने कहा कि खेल गांव में हजारों कंडोम वितरित किए जाएंगे और उनके खत्म होने तक ये बिस्तर सही सलामत रहेंगे।

कम्पनी ने यह भी कहा कि इन बिस्तरों को वजन सहन क्षमता का परीक्षण किया गया है और अगर इन पर जरूरत से अधिक वजन नहीं डाला गया तो ये नहीं टूटेंगे। कम्पनी ने यह भी कहा कि अगर दो लोग अगर इन बिस्तरों पर जमकर धमाचौकड़ी करेंगे तो भी ये नहीं टूटेगे।