नई दिल्ली : सर्बियाई सुपरस्टार नोवाक जोकोविक को उनके दमदार खेल के अलावा हंसमुख रवैए के लिए भी जाना जाता है। चाहे कोर्ट के पास मौजूद बॉल बॉय से बातें करना हो या क्राउड की तरफ मजाकिया इशारा करना, जोकोविक हमेशा अपनी विनम्रता से सभी का दिल जीत लेते हैं लेकिन उनकी एक आदत फैन्स को हैरान करती है। जोकोविक जब भी विंबलडन खिताब जीतते हैं, सेंटर कोर्ट की घास चाव से खाते हैं।

वर्ल्ड नम्बर-1 जाकोविक ने अपने करियर में अब तक कुल 16 ग्रैंड स्लैम खिताब जीते हैं जिसमें से पांच बार उन्होंने इंग्लिैंड में होने वाले प्रतिष्ठित विंबलडन के खिताब को अपने नाम किया है। इस साल भी उन्होंने स्विट्जरलैंड के महान खिलाड़ी और 20 बार के ग्रैंड स्लैम विजेता रोजर फेडरर को मात देकर विंबलडन का खिताब जीता और इसके बाद कोर्ट की घास खाई।

वर्ष 2011 में जाकोविक ने इस बेहद रोचक चीज की शुरुआत की थी। उस साल सर्बियाई खिलाड़ी ने पहली बार विंबलडन का खिताब अपने नाम किया था और जीत दर्ज करने के बाद कोर्ट की घास को खाकर सभी को चौका दिया। फैन्स समझ नहीं पाए की जोकोविक ने ऐसा क्यों किया। उस दिन के बाद से वह जब भी साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम का खिताब जीतते हैं तो कोर्ट पर मौजूद घास को जरूर खाते हैं।

इसे भी पढ़ें :

पाकिस्तान में बनी इस फुटबॉल से खेला जाएगा फीफा विश्व कप,  इस ‘गेंद’ की ये हैं विशेषताएं

जाकोविक ने हालांकि, इसका कारण किसी से छिपाया नहीं है। जोकोविक ने बताया, "पहली बात तो मुझे विंबलडन की घास का स्वाद बहुत अच्छा लगता है। इसका मतलब यह है कि मैं फाइनल में पहुंच गया हूं और जीत दर्ज करने में कामयाब हुआ हूं।"

उन्होंने कहा, "मैं कहूंगा कि यह एक छोटा सी परंपरा की तरह है कि मैं इतनी बार इस प्रतियोगिता को जीतने में कामयाब रहा हूं। मैंने हमेशा विंबलडन जीतने का सपना देखा था। जब मैं सात या आठ साल का था तब विंबलडन की छोटी-छोटी ट्रॉफी बनाता था और आईने के सामने खुद को इस प्रतियोगिता के चैम्पियन के रूप में देखता था। वह मेरा सबसे बड़ा सपना था।"

लेकिन उन्हें घास खाने का ख्याल कैसे आया? जोकोविक ने इस पर कहा, "जब मैं वैसी हरकतें कर रहा था तभी मुझे ख्याल आया कि मुझे वो घास खानी चाहिए। पता नहीं क्यों मैंने वैसा ही किया। जब मैंने पहली बार उसे चखा था तो वह मुझे अपनी जीवन की सबसे मीठी चीज लगी। मुझे उम्मीद है कि अपना करियर खत्म करने से पहले मैं दोबारा ऐसा कर पाऊंगा। हर साल विंबलडन का हिस्सा बनना बहुत विशेष है क्योंकि यह टूर्नामेंट बहुत अलग है।"

इसे भी पढ़ें :

विंबलडन का सबसे लंबा फाइनल, रोजर फेडरर को हराकर 5वीं बार चैंपियन बने जोकोविच

हॉकी के ओलंपिक क्वालीफायर में आज रूस से भिड़ेगा भारत

जोकोविक अभी भी बेहद फिट हैं और जिस तरह की फार्म में चल रहे हैं उसे देखते हुए ऐसा प्रतीत हो रहा है कि वह आगे अपने करियर में कई बार विंबलडन की घास का स्वाद चखेंगे। फेडरर और राफेल नडाल (19) फिलहाल, सबसे ज्यादा ग्रैंड स्लैम जीतने के मामले में क्रमश: पहले और दूसरे नंबर पर हैं और उनके इस रिकॉर्ड को सबसे बड़ा खतरा किसी से है तो वह जोकोविक ही हैं।

सबसे अधिक ग्रैंड स्लैम जीतने के मामले में वह तीसरे नंबर पर मौजूद हैं।