नई दिल्ली : धर्म वो है, जिसे हम मानते हैं। इसके प्रति आस्था रखते हैं। हर धर्म में सर्वशक्तिमान शक्ति होती है, जिसकी अराधना या स्तुति की जाती है। इग्लेसिया मैराडोनानिया- जिसे अंग्रेजी में चर्च ऑफ मैराडोना कहा जाता है, सभी धर्मो से जुदा एक अलग धर्म है। यह वह धर्म है, जिसकी सर्वशक्तिमान शक्ति एक फुटबाल खिलाड़ी है और जो अब भी जीवित है।

जैसा कि नाम से संकेत मिलता है, चर्च ऑफ मैराडोना अर्जेटीना के महान फुटबाल खिलाड़ी डिएगो मैराडोना से जुड़ा है। इस धर्म की स्थापना मैराडोना के तीन सबसे बड़े प्रशंसकों ने की थी क्योंकि उनका मानना है कि मैराडोना दुनिया के महानतम फुटबाल खिलाड़ी हैं और इस लिहाज से उनकी अराधना की जानी चाहिए।

चर्च ऑफ मैराडोना 
चर्च ऑफ मैराडोना 

चर्च ऑफ मैराडोना की स्थापना 30 अक्टूबर, 1998 को मैराडोना के 38वें जन्मदिन के अवसर पर अर्जेटीना के शहर रोजारियो (इसी शहर में लियोनेल मेसी का जन्म हुआ था) में अर्जेटीनी फुटबाल के तीन प्रशंसकों (हेक्टर कोम्पोरनार, एलेजेंड्रो वेरोन और हेर्नान अमेज) द्वारा की गई थी। यह एक ऐसा धर्म है, जिसमें सर्वशक्तिमान के प्रति आस्था की अपनी-अपनी परिभाषा हो सकती है।

वेरोन के लिए यह आस्था मैराडोना से जुड़ी है। जन्म से वह रोमन कैथोलिक ईसाई हैं लेकिन मन से वह मैराडोना को सर्वशक्तिमान ताकत मानते हैं और दिल से वह चर्च ऑफ मैराडोना को फॉलो करते हैं। इस धर्म की अपनी कुछ मान्यताएं हैं और दुनिया भर में बसे इस धर्म के लाखों मानने वाले इन मान्यताओं पर यकीन करते हैं, आत्मसात करते हैं।

चर्च ऑफ मैराडोना की मुख्य रूप से 10 मान्यताएं हैं। पहली मान्यता यह है कि गेंद कभी मैली नहीं होती। दूसरी मान्यता में कहा गया है कि किसी भी चीज से अधिक फुटबाल को प्यार करो। तीसरी मान्यता में डिएगो और फुटबाल जैसे सुंदर खेल के प्रति अतार्किक प्यार बनाए रखो। चौथी मान्यता यह है कि इस धर्म को मानने वाले हर व्यक्ति का कर्तव्य है कि वह अर्जेटीनी राष्ट्रीय टीम की जर्सी की रक्षा करे।

 मैराडोना
मैराडोना

चूंकी यह धर्म मैराडोना से जुड़ा है, लिहाजा इसकी एक मान्यता यह भी है कि इसको मानने वालों को मैराडोना के करिश्माई खेल के बारे में दुनिया भर में प्रचार करते रहना होगा। इसके बाद यह भी मान्यता है कि मैराडोना जहां-जहां खेले हैं, उन स्थानों को एक मंदिर मानकर उनका सम्मान किया जाना चाहिए। इसके बाद इस धर्म को मानने वालों से कहा गया है कि वे मैराडोना को किसी एक टीम के सदस्य के तौर पर प्रचारित न करें।

चर्च ऑफ मैराडोना के मानने वालों के लिए अगला आदेश यह है कि अपने नाम के बीच में डिएगो शब्द का उपयोग करें और अपने पहले बेटे का नाम डिएगो रखें।

इस धर्म को मानने वालों के लिए 1986 फीफा विश्व कप में इंग्लैंड और अर्जेटीना के बीच खेला गया क्वार्टर फाइनल इतना पवित्र है कि वे हर साल इस मैच की सफलता का जश्न ईस्टर के तौर पर मनाते हैं। इस धर्म के लिए क्रिसमस 30 अक्टूबर को आता है, जिस दिन मैराडोना का जन्म हुआ था।

वेबसाइट स्मिथजर्नल डॉट कॉम के मुताबिक ब्राजील के महान फुटबाल खिलाड़ी जीको उन दिनों को याद करते हैं, जब मैराडोना चरम पर थे। जीको कहते हैं, "मैराडोना ने फुटबाल के मैदान पर ऐसे कारनामे किए हैं, जिन्हें करने से पहले शायद भगवान भी एक बार सोचते। शायद ही कोई इस बात से इंकार करे कि फुटबाल मैदान पर मैराडोना की शक्तियां किसी सुपरनेचुलर से कम थीं।"

जीको ने यहां एक अहम सवाल भी उठाया। तो फिर चर्च ऑफ मैराडोना अपने 'ईश्वर' की कोकीन की लत का बचाव कैसे करेगा? मैराडोना के करीबी रहे एक खेल पत्रकार ने इसका बचाव करते हुए कहा, "यह भी एक ईश्वरीय शक्ति है। मैराडोना ने अपने जीवन में जितना कोकीन का सेवन किया है, वह एक आम इंसान नहीं कर सकता। डिएगो अलग हैं। वह कई बार बचकानी हरकते करते हैं और बचकानी बातें करते हैं। वह गलतियां करते हैं लेकिन माफ कर दिए जाते हैं क्योंकि वह एक लिविंग लेजेंड हैं, एक किवदंती हैं।"

इसे भी पढ़ें :

फीफा विश्व कप 2018 : क्या अर्जेंटीना को तीसरी बार खिताब दिला पाएंगे मेस्सी..!

FIFA WC 2018 : अर्जेंटीना को लगा बड़ा झटका, मिडफील्डर लानजिनी बाहर

FIFA World Cup में हिस्सा ले रहे देशों में सबसे अमीर है स्विटजरलैंड

वेबसाइट दगार्जियन डॉट कॉम के मुताबिक 29 अक्टूबर को हर साल रोजारियो में ईव ऑफ क्रिसमस पार्टी होती है और यहां दुनिया भर से आए लाखों चर्च ऑफ मैराडोना के फॉलोअर्स जश्न मनाते हैं। एक आंकड़े के मुताबिक चर्च ऑफ मैराडोना को मानने वालों की संख्या दो लाख के करीब है। चर्च ऑफ मैराडोना की कोई इमारत नहीं लेकिन इसके मानने वालों में दुनिया के महानतम फुटबाल खिलाड़ी मेसी, रोनाल्डीनियो और कार्लोस टेवेज (मैराडोना के दामाद) शामिल हैं।

इस धर्म को मानने वालों का मानना है कि जिस तरह ईसा मसीह को क्रूसीफाई किया गया था और बर्बरतापूर्वक मार दिया गया था, उसी तरह कई मौकों पर मैराडोना को मैदान में गिराया गया, मारा गया, उनके पैरों को काटा गया लेकिन वह फिर भी नहीं 'मरे' और आज उनके भगवान बन चुके हैं। इस धर्म के फॉलोअर्स को लिए 'जिस तरह पोप अर्जेटीनी है, उसी तरह गॉड भी अर्जेटीनी है।'