नूर-सुल्तान (कजाकिस्तान) : भारतीय महिला पहलवान और एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता विनेश फोगाट (53 किलोग्राम) ने यहां जारी विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता और टोक्यो ओलम्पिक के लिए कोटा हासिल कर लिया। वह टोक्यो ओलम्पिक के लिए कोटा हासिल करने वाली पहली भारतीय पहलवान हैं।

विनेश ने बुधवार को खेले गए अपने रेपचेज कांस्य पदक मुकाबले में दो बार की विश्व कांस्य पदक विजेता मिस्र की मारिया प्रेवोलार्की को हराकर कांस्य पदक जीता। वह विश्व चैम्पियनशिप में पदक जीतने वाली अब तक की चौथी भारतीय महिला पहलवान हैं।

25 वर्षीय विनेश ने प्रेवोलार्की को 4-1 से हराकर कांस्य पदक जीता। इस चैम्पियनशिप में भारत का यह पहला पदक है। वहीं, विनेश का किसी भी विश्व चैम्पियनशिप में यह पहला पदक है।

राष्ट्रमंडल खेलों की पदक विजेता विनेश ने इससे पहले, रेपचेज राउंड-2 मुकाबले में विश्व चैंपियनशिप की रजत पदकधारी पहलवान अमेरिका की सारा हिल्डरब्रैंट को हराकर कांस्य पदक मुकाबले में जगह बनाई थी और टोक्यो के लिए टिकट अपना टिकट पक्का किया था।

विनेश टोक्यो ओलम्पिक के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय महिला बनी हैं।

अपना तीसरा विश्व चैम्पियनशिप खेल रहीं विनेश ने विश्व चैम्पियनशिप की रजत पदक विजेता हिल्डरब्रैंट को 8-2 से पराजित किया। रेपचेज राउंड-1 मुकाबले में विनेश ने यूक्रेन की यूलिया ब्लाहिन्या को 5-0 से शिकस्त दी थी।

विनेश ने इस चैम्पियनशिप में अपने अभियान की अच्छी शुरुआत की और क्वालिफिकेशन में रियो ओलम्पिक की पदक विजेता स्वीडन की सोफिया मैटसन को 13-0 के बड़े अंतर से शिकस्त दी।

विनेश को प्री क्वार्टरफाइनल में जापान की मायु मुकाइदा से 0-7 से हार का सामना करना पड़ा। विनेश की मुकाइदा के खिलाफ यह लगातार दूसरी हार है। उन्हें इससे पहले एशियाई चैम्पियनशिप में भी मुकाइदा से हार का सामना करना पड़ा था।

इसे भी पढ़ें :

एशियन जूनियर कुश्ती चैम्पियनशिप में दिव्या को रजत, रीना, करुणा को कांस्य

कुश्ती : विश्व चैम्पियनशिप के लिए बजरंग को मिला टॉप सीड

विनेश फोगाट और बजरंग पूनिया के लिए राजीव गांधी खेल रत्न की सिफारिश

मुकाइदा ने इस वर्ग के फाइनल में जगह बनाई जिससे विनेश को रेपेचेज में उतरने का मौका मिल गया। विनेश ने फिर रेपेचेज के पहले राउंड में यूक्रेन की यूलिया ब्लाहिन्या को 5-0 से हराकर रेपचेज राउंड-2 में प्रवेश किया।

विनेश ने फिर रेपचेज राउंड-2 में हिल्डरब्रैंट को हराकर ना केवल टोक्यो ओलम्पिक कोटा हासिल किया बल्कि उन्होंने कांस्य पदक मुकाबले में भी प्रवेश कर लिया और अब उन्होंने कांस्य पदक भी जीत लिया है।