नई दिल्ली : विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचने वाली पीवी सिंधु स्वदेश लौट आईं है। नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उनका जोरदार स्वागत किया हुआ।

इस दौरान सिंधु ने कहा, "मैं उम्मीद करती हूं कि देश के लिए ऐसे ही और मेडल भविष्य में भी जीतूंगी। साथ ही मैं अपने प्रशंसकों को धन्यवाद देना चाहती हूं। उन्होंने मुझे बहुत सारा प्यार और दुआएं दीं जिसकी वजह से मैं आज यहां हूं।"

इससे पहले सोमवार रात को सिंधु के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से बाहर आते ही जोरदार स्वागत हुआ। उन्हें फूलमालाएं पहनाई गईं। सिंधु ने कहा कि यह मेरे लिए बहुत अहम पल हैं। मुझे अपने भारतीय होने पर बेहद गर्व महसूस हो रहा है। इसके साथ ही उन्होंने अब उनसे पूछे जा रहे सवाल के बारे में भी बताया।

इसे भी पढ़ें :

बैडमिंटन में पी.वी. सिंधु का जलवा, अब तक जीत चुकी हैं इतने मेडल

PV सिंधु ने रचा इतिहास, बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियनशिप में जापान की ओकुहारा को हराकर जीता खिताब

सिंधू ने कहा, "लोग पहले ही पूछने लगे हैं सिंधू टोक्यो 2020 में स्वर्ण पदक को लेकर क्या विचार है? ओलंपिक काफी दूर नहीं है लेकिन इस समय मैं कदम दर कदम आगे बढ़ना चाहती हूं। मुझे पता है कि ओलंपिक क्वालिफिकेशन चल रहा है लेकिन उम्मीद करती हूं कि मैं अच्छा प्रदर्शन करूंगी। फिलहाल मैं सिर्फ इसका लुत्फ उठाना चाहती हूं और किसी और चीज के बारे में नहीं सोचना चाहती।"

सिंधू ने यह भी कहा, "यह मेरा उन लोगों को जवाब है जो बार-बार सवाल पूछ रहे थे। मैं सिर्फ अपने रैकेट से जवाब देना चाहती थी। इस जीत के साथ मैं ऐसा करने में सफल रही। पहले विश्व चैंपियनशिप फाइनल के बाद मुझे काफी बुरा लग रहा था। पिछले साल मैं नाराज थी, दुखी थी। मैं भावनाओं से गुजर रही थी, खुद से पूछ रही थी ‘सिंधू तुम यह एक मैच क्यों नहीं जीत पा रही हो’? लेकिन आखिरकार मैंने खुद से अपना स्वाभाविक खेल दिखाने और चिंता नहीं करने को कहा और यह काम कर गया।"