हैदराबाद : भारत के स्टार महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु का आज जन्मदिन है। उनका जन्म 5 जुलाई 1995 को हुआ था। सिंधु एक आत्मनिर्भर और मेहनती खिलाड़ी हैं, जिन्होंने लगातार साबित किया है कि वह एक विश्व स्तरीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं।

- पीवी सिंधु ने 8 साल की उम्र से उन्होंने बैडमिंटन खेलना शुरू किया था। उनके पहले कोच थे महबूब अली, लेकिन जल्दी ही वे पी गोपीचंद के बैडमिंटन एकैडमी से जुड़ गईं।

- वर्ष 2009 में सिंधु ने कोलंबो में जूनियर एशियाई बैडमिंटन चैंपियनशिप में हिस्सा लिया जो उनका पहला अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट था।

- वर्ष 2016 के रियो ओलंपिक खेलों में उन्होंने सिल्वर मेडल जीतकर सबसे कम उम्र में ओलंपिक पदक जीतने वाली भारतीय बन गईं।

- 10 अगस्त 2013 में सिंधु ऐसी पहली भारतीय महिला बनीं जिसने वर्ल्ड चैंपियनशिप्स में मेडल जीता था।

- 2015 में सिंधु को भारत के चौथे उच्चतम नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

- 2012 में पी सिंधु ने बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन की टॉप 20 रैंकिंग में जगह बनाई।

- पी सिंधु के पिता रामना स्वयं अर्जुन अवार्ड विजेता हैं। रामना भारतीय वॉलीबॉल का हिस्सा रह चुके हैं।

- सिंधु ने अपने पिता के खेल वॉलीबॉल के बजाय बैडमिंटन इसलिए चुना क्योंकि वे पुलेला गोपीचंद को अपना आदर्श मानती हैं। सौभाग्य से वही उनके कोच भी हैं।

- पी सिंधु ने आठ वर्ष की उम्र से बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था।

- पुलेला गोपीचंद ने पी सिंधु की तारीफ करते हुए कहा कि उनके खेल की खास बात उनका एटीट्यूड और कभी न खत्म होने वाला जज्बा है।

- 2014 में सिंधु ने एफआईसीसीआई ब्रेकथ्रू स्पोर्ट्स पर्सन ऑफ दि इयर 2014 और एनडीटीवी इंडियन ऑफ दि इयर 2014 का अवार्ड जीता।

पीवी सिंधु के फिटनेस का राज

पी.वी. सिंधु अपने फिटनेस स्तर को बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करती है। उनका दिन तड़के साढ़े तीन बजे शुरू होता है और वह दिन में छह से आठ घंटे वर्कआउट करती हैं।

- धैर्य और ताकत को बढ़ाने के लिए वह रोजाना मिश्रित वर्कआउट करती हैं। जिसमें दिन में 400 मीटर के दो से तीन सेट और एक दिन छोड़कर एक दिन ढाई किलोमीटर की दौड़ शामिल है।

- सिंधु रोजाना 100 पुश अप और 200 सिटअप करती हैं। सप्ताह में कुल 600 पुशअप और 2400 एब्स एक्सराइज करती हैं ताकि वह अपनी मांसपेशियों और अपने शरीर को मजबूत रख सकें।

- इसके अलावा सिंधु इन एक्सरसाइज के साथ, योग, प्रणायाम, कपालभाती और तैराकी भी करती हैं। ट्रेनिंग का उनका पहला सेशन सुबह साढ़े चार बजे शुरू होता है और सात बजे तक चलता है, इस दौरान उनके साथ उनके कोच होते हैं।

- सिंधु अपनी डाइट में संतुलित कार्ब और प्रोटीन पर ध्यान देती हैं। इसके साथ वह भरपूर मात्रा में पानी पीती हैं। नाश्ते में दूध, अंडे और फलों का सेवन करती हैं। लंच में सिंधु मीट के साथ कुछ सब्जियां और चावलों का प्रयोग करती हैं।

- अपने वर्कआउट सेशन के दौरान सिंधु हमेशा एक छोटा कटोरा फ्रूट, थोड़े ड्राई फ्रूट और एक बोतल जूस साथ रखती हैं। रात के खाने में वह बिना कार्ब वाला खाना खाती है। सिंधु ग्रिल्ड मीट और सब्जियां खाती हैं। उनके मैच के दिन उनका डाइट चार्ट बिल्कुल अलग होता है।