हैदराबाद : पिछले कुछ वर्षों से देश में खेल को विशेष प्राथमिकता देखने को मिल रही है। ऐसे तो भारत में राष्ट्रीय खेल हाकी है, लेकिन उसके अलावा भी कई खेल इन दिनों काफी खेले जा रहे हैं। जैसा कि क्रिकेट, फुटबाल, टेनिस, बैडमिंटन आदि। भारत में हमेशा से फूटबाल का एक अलग क्रेज रहा है।

वो यादगार पल

भारत पहली बार 30 अप्रैल 1974 में बैंकॉक में आयोजित 16वें एशियन यूथ फुटबाल चैंपियनशिप में इरान के साथ ज्वाइंट चैंपियन बना था। परंतु उसके बाद दो से तीन दशक तक इस खेल में भारत का प्रदर्शन आशाजनक नहीं रहा। 1974 के बाद भारत के पाले में ऐसा कोई मेडल या ट्रॉफी नहीं मिला, जिसका हम अलग से जिक्र कर सके।

1974 की विजेता टीम के कई शानदार खिलाड़ी थे, जिनके नाम इस प्रकार हैं.,, पालित, चंदन, स्व. देवराज, स्व. हरजिंदर, स्व. एमडी याकूब, पी.एम. कुमार, सीसी जैकॉब, बर्रेटो एंड चिन्मॉय, अमित दास गुप्ता, तपन बोस, देवानंद प्रसून बनर्जी (उप कप्तान), शब्बीर अली (कप्तान), सिसिर गुहा दस्तीदर, स्व. प्रशांता मित्रा, गोविंदा दास और लतीफुद्दीन (नजम)।

इस टीम के मैनेजर- दिलीप केआर घोष और कोच अब्दुस सलाम और अरुण घोष थे।

इसके अलावा भारतीय टीम एशिया के स्तर पर 1970 में तीसरे स्थान पर रही। यही नहीं, फर्स्ट डिवीजन में खेलने के अलावा संतोष ट्रॉफी में हिस्सा लेती रही है।

1974 की विजेता टीम के कप्तान रहे शब्बीर अली इन दिनों तेलंगाना राज्य फुटबॉल टीम के कोच हैं। तेलंगाना सरकार ने शब्बीर अली को तेलंगाना फुटबॉल एसोशिएशन की पूरी जिम्मेदारी सौंपी है।

कोचिंग करते भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान शब्बीर अली
कोचिंग करते भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान शब्बीर अली

इस वर्ष तमिलनाडु के नेवेल्ली में 3 से 8 फरवरी 2019 तक आयोजित राष्टीय फुटबाल चैंपियनशिप और संतोष ट्रॉफी में भी टीम का प्रदर्शन ठीक रहा, लेकिन वह सेमीफाइनल में जगह नहीं बना पाई। 2016 में फुटबॉल टीम एशियाई खेलों में अंतिम 24 तक पहुंच पाई थी, जबकि दूसरे राउंड में टूर्नामेंट से बाहर हो गई।

शब्बीर अली के मुताबिक पृथक तेलंगाना राज्य बनने के बाद और उससे पहले भी तेलंगाना फुटबॉल टीम का प्रदर्शन काफी बेहतर रहा है। साउथ जोन खेलों में उसने क्वालीफाई किया था। पिछले साल चैंपियन केरल को हराया । यही नहीं पूर्व चैंपियन सर्विसेज को हराकर पुडुचेरी के साथ ड्रा किया था। परंतु इससे हमारी टीम के लिए पर्याप्त नहीं था, क्योंकि सर्विसेज ने आगे के खेलों में पुडुचेरी और केरल को हराकर हमारी ग्रुप से क्वालीफाई हुआ।

कांसेप्ट फोटो
कांसेप्ट फोटो

ध्यानचंद अवार्डी व भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान शब्बीर अली का कहना है कि देश में क्रिकेट की तरह अब फुटबॉल खिलाड़ियों के लिए अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने के लिए अच्छे मौके मिल रहे हैं। हैदराबाद के दारुशिफा स्थित अब्बास यूनियन फुटबॉल क्लब का संचालन करते हैं शब्बीर अली और इस क्लब से कई होनाहार और प्रतिभाशाली खिलाडी उभर रहे हैं।

एक सवाल के जवाब में उनका कहना था कि इंडियन सुपर लीग जैसे टूर्नामेंट के लिए यहां के खिलाड़ी जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं, लेकिन इंडियन प्रीमियर लीग में अभी तक तेलंगाना के खिलाड़ियों को खास जगह नहीं मिल रहा है, इसकी वजह यह भी है कि तेलंगाना से आईएसएल में कोई फ्रेंचाइजी नहीं है।

शब्बीर अली इससे पहले वेस्ट बंगाल स्टेट फुटबॉल टीम के चीफ कोच रहे हैं। यही नहीं, टेक्निकल डायरेक्टर ऑफ इंडियन नेशनल फुटबॉल टीम भी रहे और पिछले दो वर्षों से तेलंगाना स्टेट फुटबॉल एसोसिएशन की जिम्मेदारी संभाले हुए हैं।