नई दिल्ली : आखिरी मोर्चे पर नाकामी का ठप्पा हटाकर पी वी सिंधु ने साल के आखिर में खिताब जीता जबकि साइना नेहवाल का अच्छा प्रदर्शन जारी रहा। वहीं, लक्ष्य सेन ने भविष्य के लिए उम्मीदें जगाई। बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन ने इस साल टूर्नमेंट का नया फॉर्मेट जारी किया जिसके तहत इनामी राशि के आधार पर टूर्नमेंटों की ग्रेडिंग की गई।

सिंधू ने सभी बड़े टूर्नमेंटों में सिल्वर जीता लेकिन आखिर में वर्ल्ड टूर फाइनल्स खिताब अपने नाम किया। पांच सिल्वर मेडल जीतने के बावजूद सिंधु की फाइनल में हार जाने को लेकर आलोचना होती रही है। उन्होंने आखिर में वर्ल्ड टूर फाइनल्स में गोल्ड जीतकर अपने आलोचकों को करारा जवाब दिया। उन्होंने इस साल कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स, वर्ल्ड चैम्पियनशिप, इंडिया ओपन और थाइलैंड ओपन में सिल्वर जीता।

वहीं करियर के लिए खतरा बनी घुटने की चोट से उबरकर साइना ने पिछले साल वर्ल्ड चैम्पियनशिप में ब्रॉन्ज जीता। उन्होंने इस साल राष्ट्रमंडल खेलों में गोल्ड और एशियन गेम्स में ब्रॉन्ज अपने नाम किया।

साइना ने राष्ट्रमंडल खेलों के फाइनल में सिंधु को हराकर अपने फन का लोहा मनवाया। वह इंडोनेशिया मास्टर्स, डेनमार्क ओपन और सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय टूर्नमेंट के फाइनल्स में पहुंचीं। इसके अलावा एशियाई चैम्पियनशिप और एशियाई खेलों में ब्रॉन्ज जीता।

इसे भी पढ़ें :

ओकुहारा को हरा वर्ल्ड टूर फाइनल्स खिताब जीतने वाली पहली भारतीय बनीं सिंधू

साल के अंत में साइना ने अपने साथी बैडमिंटन खिलाड़ी और 2014 राष्ट्रमंडल खेलों के चैम्पियन पारुपल्ली कश्यप को जीवनसाथी चुन लिया।

पुरुष वर्ग में समीर वर्मा ने स्विस ओपन सुपर 300, सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय सुपर 300 और हैदराबाद ओपन सुपर 100 टूर्नमेंट जीता। इसके अलावा अपने पहले वर्ल्ड टूर फाइनल्स में वह सेमीफाइनल तक पहुंचे। 17 बरस के लक्ष्य ने एशियाई जूनियर चैम्पियनशिप खिताब जीतने के अलावा यूथ ओलिंपिक गेम्स में सिल्वर और वर्ल्ड जूनियर चैम्पियनशिप में ब्रॉन्ज अपने नाम किया।

स्टार शटलर किदाम्बी श्रीकांत इस साल फॉर्म में नहीं थे और एक भी खिताब अपने नाम नहीं कर पाए। पिछले साल चार खिताब जीतने वाले श्रीकांत ने CWG में सिल्वर और टीम वर्ग में गोल्ड जीता। कुछ समय के लिए वह नंबर वन रैंकिंग पर पहुंचे लेकिन बाद में 8वें स्थान पर खिसक गए।

युगल में चिराग शेट्टी और सात्विक साईराज रंकीरेड्डी ने राष्ट्रमंडल खेलों में सिल्वर जीता। इसके अलावा सैयद मोदी टूर्नमेंट में भी उपविजेता रहे। अश्विनी पोनप्पा ने एन सिक्की रेड्डी के साथ राष्ट्रमंडल खेल महिला युगल में ब्रॉन्ज जीता।