तेलंगाना पुलिस की मदद से इमोशनल हुईं YSRCP महिला नेता, पुलिस को बताया फ्रैंडली

YSRCP Tirupati Leader Gajjala Lakshmi Lauds Telangana Police - Sakshi Samachar

हैदराबाद: आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के तिरुपति में YSRCP नेता गज्जाला लक्ष्मी (Gajjala Lakshmi) ने तेलंगाना पुलिस (Telangana Police) की सराहना की है। दरअसल लक्ष्मी दिल्ली से फ्लाइट के जरिए राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट (RGI Airport) पहुंची थीं। इसके बाद सड़क मार्ग से वो कार से तिरुपति (Tirupati) के लिए रवाना हुईं। अभी चंद किलोमीटर की दूरी ही तय की थी कि हैदराबाद (Hyderabad) के बाहरी इलाके शादनगर में उनकी गाड़ी खराब हो गई। बीच रात में अकेली गज्जाला लक्ष्मी को कुछ अनहोनी को लेकर आशंका हुई। क्योंकि शादनगर ही वो इलाका था जहां दिशा रेप और हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। इस दौरान उन्होंने पुलिस के साथ अपने अनुभव शेयर किये।  

सशंकित गज्जाला लक्ष्मी का ड्राइवर कार को ठीक कराने में लगा हुआ था। वहीं बीच सड़क रात के अंधेरे में अकेली महिला होने के नाते वो भयभीत थीं। तभी वहां से पुलिस की पैट्रोलिंग गाड़ी गुजरी। उसमें से SI राम चंदर निकले और उन्होंने परिस्थिति के बारे में पूछताछ की। सबकुछ समझते हुए सब इंस्पेक्टर ने तत्काल कॉन्सटेबल अशोक को आदेश दिया कि वो गाड़ी ठीक करने में ड्राइवर की मदद करें। पुलिस की मौजूदगी तब तक रही जब तक कि YSRCP नेता गज्जाला लक्ष्मी की गाड़ी ठीक नहीं हो गई। सब कुछ दुरुस्त होने के बाद महिला नेता ने सब इंस्पेक्टर राम चंदर का शुक्रिया अदा किया। इस पर राम चंदर ने विनम्रता से कहा कि उन्होंने अपनी ड्यूटी निभाई है। रात में अकेली महिला को सुरक्षा का अहसास दिलाना पुलिस का पहला फर्ज है, जिसे दोनों पुलिसकर्मियों ने बखूबी निभाया था। 

सुरक्षित तिरुपति लौटने के बाद YSRCP नेता गज्जाला लक्ष्मी ने तेलंगाना पुलिस की सहृदयता को लेकर अपने अनुभव सोशल मीडिया पर शेयर किये। उन्होंने लिखा कि फ्रैंडली पुलिसिंग का सच्चा उदाहरण तेलंगाना पुलिस ने दिखाया। महिला नेता के मुताबिक पुलिस ने वो सभी जतन किये जिससे कि एक महिला रात के अकेले में खुद को सुरक्षित महसूस कर सकें। 

गज्जाला लक्ष्मी के सोशल मीडिया पोस्ट पर ACP कुशलकर ने लिखा कि उस रात ड्यूटी पर तैनात सब इंस्पेक्टर राम चंदर और कॉन्सटेबल अशोक को पुरस्कृत किया जाएगा। एसीपी ने स्पष्ट किया कि हाईवे पर महिलाओं और आम लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रात में पैट्रोलिंग वाहन लगातार सक्रिय होते हैं। खासकर दिशा हत्याकांड के बाद पुलिस अपनी तरफ से कोई रिस्क नहीं लेना चाहती है। 

शादनगर में ही दिशा रेप और हत्याकांड को  दिया था अंजाम 

हैदराबाद के चर्चित दिशा रेप और हत्याकांड को शादनगर में नवंबर 2019 को अंजाम दिया गया था। घटना में 26 वर्षीय पशु चिकित्सक को सामूहिक दुष्कर्म के बाद बेरहमी से मार डाला गया था। फिर पुल के नीचे उनकी लाश को फूंका गया था। दिशा स्कूटी से थीं और हाईवे पर उनकी गाड़ी खराब हुई थी। इसी का फायदा उठाकर बदमाशों ने उन्हें अपना शिकार बनाया था। हालांकि बाद में साइबराबाद पुलिस ने बदमाशों को गिरफ्तार किया और कस्टडी से भागने के क्रम में उनका मौका ए वारदात के करीब ही एनकाउंटर कर दिया गया था। घटना की देशभर में चर्चा हुई थी। साथ ही ड्यूटी के दौरान कोताही बरतने के आरोप में कुछ पुलिसकर्मियों को दंडित भी किया गया था। 

दिशा हत्याकांड के बाद ही तेलंगाना पुलिस ने कई गाइडलाइन जारी किये थे। जिसके तहत रात में अकेली महिला की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस ने ली है। यहां तक कि महिला की गाड़ी खराब होने की स्थिति में उन्हें पुलिस वाहन में उनके गंतव्य तक छोड़ने की व्यवस्था की गई है। रात के अंधेरे में सार्वजनिक जगह पर महिला खुद को असुरक्षित पाती है तो पुलिस को सख्त निर्देश है कि वो उनकी हर संभव सहायता करें। 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top