तेलंगाना में आक्रामक हुई TRS और BJP के बीच जुबानी जंग, चमड़ी उधेड़ने की धमकी तक पहुंची लड़ाई

Verbal Fight Between TRS And BJP after GHMC Elections - Sakshi Samachar

चमड़ी उधेड़ देंगे... जुबान काट देंगे

टीआरएस के निशाने पर बंडी संजय

सोशल मीडिया पर केंद्र के खिलाफ प्रचार

हैदराबाद : दुब्बाका उपचुनाव के साथ सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के बीच शुरू हुई आलोचनाओं की जंग ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव तक चरम पर थी और अब आरोप-प्रत्यारोप तथा चुनौतियों की दिशा में बढ़ रही है। शुरू में भाजपा नेताओं की आलोचनाओं, चुनौतियों और सोशल मीडिया पर प्रचार को लेकर नरम रुख अपना चुकी टीआरएस पिछले दो सप्ताह से भाजपा पर हमले तेज करने के साथ -साथ चुनौतियां दे रही है। टीआरएस के नेता भाजपा को अब 'बकवास ज्यादा पार्टी', 'बड़ा झूठा पार्टी'बताते हुए जवाबी हमले पर उतर रहे हैं।

दूसरी तरफ, दुब्बाका उपचुनाव में सोशल मीडिया पर भाजपा के प्रचार से हुए नुकसान का आकलन कर चुकी टीआरएस ने ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में अपनी सोशल मीडिया विंग को अलर्ट कर दिया था। 'टेकसेल' के नाम पर एक अलग विभाग गठित करने के साथ ही टीआरएस केंद्र में भाजपा सरकार के कामकाज की सोशल मीडिया पर धज्जियां उड़ानी शुरू कर दी है। केसीआर सरकार में मंत्री, सचेतक, पार्टी के विधायक सहित अन्य मुख्य नेता भाजपा पर हमले की रणनीति बनाने के अलावा पार्टी कैडर में नया जोश भरने का प्रयास कर रहे हैं।

टीआरएस के निशाने पर बंडी संजय

बंडी संजय तेलंगाना भाजपा अध्यक्ष बनने के बाद से मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव सहित मंत्री केटीआर और एमएलसी के. कविता को निशाना बनाते रहे हैं। संजय की बयानबाजी में इस्तेमाल किए जा रहे शब्दों को लेकर टीआरएस नेताओं में काफी गुस्सा है। सीएम KCR और उनके परिवार के सदस्यों सहित कुछ मंत्रियों का जेल जाना तय संबंधी बंडी संजय के बयान का उसी अंदाज में जवाब देने का मन बना चुके हैं टीआरएस के नेता। इसी के तहत जनवरी महीने के शुरुआत में सचेतक बाल्का सुमन ने  केसीआर ने ऐरे-गैरे की बातें सुनने के लिए पृथक तेलंगाना के लिए आंदोलन नहीं किया था। उसके ठीक एक दिन बाद मंत्री वेमुला प्रशांत रेड्डी ने बंडी संजय को भाजपा शासित राज्यों में धान खरीदी केंद्र दिखाने पर मंत्री पद से इस्तीफा देने की चुनौती दी। वरंगल और खम्मम जिलों में दौरे के दौरान बंडी संजय के बयान की मंत्री एर्राबेल्ली दयाकर राव ने तीखी आलोचना की थी।

चमड़ी उधेड़ देंगे... जुबान काट देंगे

बाल्का सुमन ने कहा था कि KCR तेलंगाना के राष्ट्रपिता जैसे हैं और ऐसे में हम मुख्यमंत्री की आलोचना करने वालों की चमड़ी उधेड़ देंगे। सरकार के एक और सचेतक गुव्वला बालराजू ने कहा था कि केसीआर की आलोचना करने वालों की जुबान काट दी जाएगी। उन्होंने कहा कि तेलंगाना में शांति बनी हुई है, लेकिन बंडी संजय सांप्रदायिक सौहार्द को बिगड़ने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी पिछले पांच महीने से बंडी संजय को बर्दाश्त करती रही है, लेकिन अब संजय हेडलाइंस के लिए डेडलाइन तय कर रहे हैं। मंत्री और विधायक भाजपा के नेताओं को गोड्से के वारिश बता रहे हैं।

दूसरी तरफ, तेलंगाना आंदोलन के दौरान किशन रेड्डी पर विधायक के तौर पर इस्तीफा नहीं देना और केंद्रीय मंत्री बनने के बाद राज्य के लिए निधि नहीं लेकर आने का आरोप लगाया जा रहा है। इसके अलावा भाजपा प्रदेश मामलों के प्रभारी तरुण चुघ को भी निशाना बनाकर टीआरएस के नेता हमले कर रहे हैं।

सोशल मीडिया में भी अगे...
टीआरएस  टेकसेल के लिए संयोजक की नियुक्ति करने के साथ ही केंद्र सरकार के कामकाज के खिलाफ प्रचार कर रही है। कृषि कानून, दिल्ली में किसानों का आंदोलन, काला धन, बैंक में घपले, भाजपा सांसदों व मंत्रियों के खिलाफ आपराधिक मामले, भाजपा में परिवारवाद जैसे मुद्दों को सोशल मीडिया पर उछाल रही है। तेलंगाना के एक मंत्री ने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी होने के नाते अब तक हम शांत रहे, लेकिन अब एक राजनीतिक पार्टी की हैसियत से भाजपा पर जवाबी हमला करेंगे।  ऐसे में आने वाले दिनों में टीआरएस और भाजपा के बीच बातों का युद्ध और जटिल होने की पूरी संभावना है।

इसे भी पढ़ें : KCR के कालेश्वरम दौरे पर बंडी संजय का तंज, "बेटे को CM बनाने के लिए करवाई दोष निवारण पूजा"

Related Tweets
Advertisement
Back to Top