कोरोना पॉजिटिव रेट में सबसे आगे तेलंगाना, महाराष्ट्र और दिल्ली को भी पीछे छोड़ा

Telangana leads the corona positive rate but tests are still decreasing - Sakshi Samachar

तेलंगाना में कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं

पॉजिटिव रेट में आगे है तेलंगाना

महाराष्ट्र और दिल्ली के भी पीछे छोड़ा 

हैदराबाद : तेलंगाना में कोरोना केस बढ़ते ही जा रहे हैं और यह बात तो सब जानते ही हैं। हाल ही में जब बुधवार को 5954 परीक्षण किए गए तो उनमें से 1410 पॉजिटिव मामले सामने आए। हाल के दिनों में राज्य में प्रति दिन औसतन 1800 से अधिक कोरोना के मामले हर दिन सामने आ रहे हैं।

कुछ मामलों में तो पॉजिटिव दर 30 प्रतिशत से अधिक है। कोरोना पॉजिटिव दर के मामले में तेलंगाना अब देश में शीर्ष स्थान पर है। तेलंगाना, जो कुछ दिनों पहले महाराष्ट्र और दिल्ली के पीछे  था, अब उन दोनों राज्यों को पीछे धकेलकर, पहले स्थान पर आ गया है। 

8 जुलाई तक तेलंगाना में पॉजिटिव दर 21.91 प्रतिशत थी। यह राष्ट्रीय पॉजिटिव दर (7.14 प्रतिशत) से तीन गुना अधिक है जो चिंता का विषय है। एपी की तुलना में तेलंगाना में सकारात्मक दर 7.8 गुना अधिक है।

तेलंगाना के प्रत्येक दस लाख लोगों में से 3430 का कोविड परीक्षण किया गया, जिनकी पॉजिटिव दर 21.91 प्रतिशत थी। महाराष्ट्र में, प्रति मिलियन आबादी में से 9564 का परीक्षणों किया गया जिनमें से पॉजिटिव दर 18.73% है। 

कोविड का दिल्ली में दस लाख की आबादी में से 35,993 का परीक्षण किया गया, जिनकी पॉजिटिव दर 14.94 प्रतिशत थी। अन्य तेलुगु राज्य आंध्र प्रदेश में एक लाख लोगों में से, 20,498 लोगों का कोविड का परीक्षण किया। पॉजिटिव दर 2.8 प्रतिशत है। राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना से मृत्यु दर 3.02% है। वहीं तेलंगाना में यह केवल 1.10 प्रतिशत है जिससे चिंता इस विषय मे कुछ कम हो जाती है। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, कर्नाटक के बाद तेलंगाना में ही कोरोना मामलों की दोहरीकरण दर ( डबलिंग रेट) सबसे अधिक है। कर्नाटक में कोरोना मामलों की संख्या 8.5 दिनों में दोगुनी हो रही है । तेलंगाना में कोरोना मामलों की संख्या को दोगुना होने में  9.5 दिन लग रहे हैं।

8 जुलाई तक तेलंगाना में कोरोना के 1.34 लाख टेस्ट (9 जुलाई तक 1,40,755 टेस्ट किए गए। जबकि केरल में 2.96 लाख, ओडिशा में 3.02 लाख, छत्तीसगढ़ में 1.91 लाख, झारखंड में 1.61 लाख परीक्षण किए गए। स्वास्थ्य अधिकारी के अनुसार,परीक्षणों के संदर्भ में, ये राज्य तेलंगाना से बेहतर हैं।

राज्य में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने हाल ही में तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री ईटेला राजेंदर से बात की और परीक्षणों की संख्या बढ़ाने के लिए कहा। 

एक स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा, "हम परीक्षण की संख्या बढ़ाना चाहते हैं लेकिन लैब और मानव संसाधनों की कमी के कारण हमें पीछे हटना पड़ रहा है। हम एक दिन में 4,000 परीक्षण तक ही सीमित हैं।" 

राज्यपाल तमिलिसाई, जिन्होंने हाल ही में निजी अस्पतालों के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेंस की, ने भी परीक्षणों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया। भले ही राज्य रैपिड एंटीजन टेस्ट कर रहा है पर सरकार को उम्मीद है कि केवल आरटी-पीसीआर परीक्षण एक निश्चित परिणाम देंगे।

Loading...
Advertisement
Back to Top