प्रवासी श्रमिक अपने घर लौटने को बेताब, हैदराबाद में पास के लिए घंटों कतार में खड़े रहने को मजबूर

migrant workers line police stations passes hyderabad - Sakshi Samachar

प्रवासी मजदूर लगा रहे पुलिस थानों के चक्कर

सुबह सबेरे ही लग रहे लाइन में, फिर भी परेशान

हैदराबाद: जबसे लॉकडाउन शुरू हुआ है तबसे प्रवासी श्रमिक किसी न किसी तरह से परेशान हैं और अब भी जब सरकार उन्हें उनके घर भेजने में लगी है तब भी इनकी मुश्किलें कम नहीं हुई है।  अपने राज्य जाने के लि प्रवासी श्रमिक यात्रा की अनुमति के लिए पुलिस थानों के चक्कर लगा रहे हैं। हजारों प्रवासी श्रमिक शहर के सभी पुलिस स्टेशनों में पास के लिए जा रहे हैं, पुलिस ने उन्हें फंक्शन हॉल में बिठाकर फिर पास जारी करने का इंतजाम किया क्योंं कि इतने लोग पुलिस स्टेशन में न जमा हो सकते हैं और न ही पुलिस उन्हें पास जारी कर सकती है। 

लॉकडाउन के कारण शहर में फंसे बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश के प्रवासी श्रमिक मंगलवार सुबह 8 बजे से ही पुलिस स्टेशन पहुंचे। गच्चीबावली पुलिस ने संध्या कन्वेंशन, माधापुर पुलिस हाई टेक, रायदुर्गम पुलिस जेआरसी कन्वेंशन, मियापुर पुलिस विश्वनाथ गार्डन और चंदानगर पुलिस ने बीके राघव रेड्डी फंक्शन हॉल में पास जारी किए।

अकेले हाईटेक सिटी क्षेत्र में लगभग चार हजार लोग थे, जबकि दो हजार से अधिक मियापुर विश्वनाथ गार्डन में जमा हुए थे। एसीपी श्यामाप्रसादराव के अनुसार, प्रतिदिन 5000 लोग माधापुर सबडिविजन में पंजीकृत किए गए।

कम नहीं हो रही प्रवासी श्रमिकों की परेशानी 

हालांकि शहर की पुलिस ने लिंक के माध्यम से अन्य राज्यों के लिए कोविड -19 लॉकडाउन ई-पास के लिए एक ऑनलाइन सुविधा स्थापित की है 
 https://policeportal.tspolice.gov.in/Covid_Pass_reg.htm, तब भी बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों ने यात्रा फॉर्म जमा करने के लिए सीधे पुलिस स्टेशनों का रुख करने का फैसला किया।

जुबली हिल्स पुलिस स्टेशन में महाराष्ट्र, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड के अन्य राज्यों के प्रवासी श्रमिकों को यात्रा आवेदन जमा करने के लिए पांच से छह घंटे तक इंतजार करते देखा गया। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि एक बार आवेदन स्वीकृत होने के बाद, उन्हें यात्रा के लिए उनके पास की पुष्टि करने वाला एक संदेश प्राप्त होगा।

प्रवासी श्रमिकों ने राज्य सरकार की सराहना करते हुए कहा किवो पूरी तरह उनका ख्याल रख रही है पर वे बिना काम के यहां नहीं रहना चाहते और लॉकडाउन के दौरान जो अनिश्चितता बनी हुई है उसके कारण भी घर लौटना चाहते हैं। श्रमिक विशेष ट्रेनों ने भी प्रवासी श्रमिकों से यात्रा अनुरोध में वृद्धि हुई है।

तेलंगाना पुलिस ने प्रवासियों को 13,799 ई-पास जारी किए

तेलंगाना पुलिस ने शनिवार से 13,799 ई-पास जारी किए, जो राज्य में लॉकडाउन के कारण फंस गए। पुलिस को 23,785 आवेदन मिले और पुलिस ने ई-पास जारी किए और फंसे हुए परिवारों और पर्यटकों को उनके गृहनगर तक पहुंचने में मदद की। पुलिस ने अपने वाहनों के पंजीकरण नंबर के साथ फंसे हुए लोगों का विवरण एकत्र किया जिसमें वे उन्हें पास जारी करने से पहले यात्रा कर रहे थे।

कई परिवार लिंक https://tsp.koopid.ai/epass पर आवश्यक जानकारी सबमिट करके एक पास को सुरक्षित करने में कामयाब रहे। परिवारों द्वारा उपलब्ध कराए गए विवरण के सत्यापन के बाद ही पास जारी किया गया था। पास जारी करने का काम जारी है पर श्रमिक बहुत ज्यादा होने से समय लग रहा है और पुलिस ने उनसे संयम बरतने का आग्रह किया है। 

इसे भी पढ़ें : 

दिल्ली के तेलुगु पत्रकारों की मदद कर रही तेलंगाना सरकार, नकद राशि मंजूर

कोरोना इफेक्ट : तेलंगाना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, एक साल तक नहीं होगा जजों का प्रोमोशन और ट्रांसफर

Advertisement
Back to Top