कोरोना का डर तो जैसे करीमनगर का पीछा ही नहीं छोड़ रहा

Karimnagar is in Fear of Corona - Sakshi Samachar

करीमनगर में पहले इंडोनेशियन से फैला कोरोना

अब मरकज से लौटे यात्रियों से फैला डर 

करीमनगर: कोरोना वायरस का डर तो जैसे करीमनगर का पीछा ही नहीं छोड़ रहा। सबसे पहले इंडोनेशियाई लोग यहां कोरोना को अपने साथ लेकर आए और जैसे ही लगा कि अब स्थिति नियंत्रण में है वैसे ही दिल्ली की तबलीगी जमात मरकज के लोगों से यह और फैलने लगा।   पहले कोरोना पॉजिटिव के मामले इंडोनेशियन लोगों द्वारा आए और लगा कि यहीं यह सिलसिला रुक जाएगा पर जब इसके तार दिल्ली की मरकज से जुड़ गए तबसे यह रुकने का नाम ही नहीं ले रहे। 

पुलिस ने पुष्टि की कि संयुक्त जिले से तबलीगी जमात की मरकज में 59 लोग गए थे। उन्हें क्वारंटाइन में स्थानांतरित कर दिया गया है और अब तक हुज़ुराबाद से दो को, एक करीमनगर में एक को और जगित्याल के तीन लोगों को कोरोना ने अपनी चपेट में लिया है। 

पेद्दापल्ली में मरकज में शामिल होकर आए व्यक्ति के साथ एक और व्यक्ति के पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है वहीं इनके साथ रेल में सफर करने वाले व्यक्ति को भी कोरोना ने अपनी चपेट में लिया है। 

हुजूराबाद में कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति द्वारा एक अन्य व्यक्ति के संक्रमित होने की खबर मिली है। इसके परिणामस्वरूप कोरोना मरकज के यात्रियों से प्राथमिक संपर्क के माध्यम से फैलकर दूसरे चरण में आ गया है। पेद्दापल्ली में रविवार को जिस व्यक्ति में कोरोना पॉजिटिव पाया गया उसके भी प्राइमरी कॉन्टैक्ट द्वारा होने की बात अधिकारियों ने बताई है। 

केवल चार लोग ही इंडोनेशियन द्वारा संक्रमित हुए

दस इंडोनेशियन लोग 14 मार्च को करीमनगर आए और 16 तक रहे और फिर उन्हें बस द्वारा क्वारंटाइन के लिए हैदराबाद ले जाया गया, उनसे दो लोगों को और फिर इनसे इनके परिवार के दो लोगों यानी सिर्फ चार लोगों को इंडोनेशियन लोगों से यह संक्रमण फैला। 
 
दूसरे चरण में, दिल्ली की मरकज की घटना ने माहौल में डर फैला दिया। करीमनगर जिले से मरकज़ में जाने वाले 19 लोगों में से तीन संक्रमित थे, जिनमें से एक करीमनगर का था, लेकिन दो हुज़ूराबाद के थे। हुजूराबाद में पॉजिटिव व्यक्ति से जिले के 18 लोग संक्रमित हो गये। उनके फिर से परीक्षण किये गये और पाया कि 13 नेगेटिव थे। विशेष रूप से इनमें दस इंडोनेशियाई भी हैं। इसके अलावा पेद्दापल्ली और जगत्याल दोनों जिले में पॉजिटिव केस मिले हैं। करीमनगर, जगत्याल और पेद्दापल्ली जिलों में पॉजिटिव मामले 23 तक पहुंच गए हैं।

मरकज के यात्रियों से फैला डर 

अधिकारी चिंतित हैं कि संयुक्त जिले के 59 लोग मरकज में शामिल हुए थे और इनके द्वारा ही कोरोना पॉजिटिव केस बढ़ सकते हैं। मरकज से आए लोगों से सात लोगों को, इनमें से एक द्वारा हुजूराबाद के व्यक्ति को पॉजिटिव होने से संख्या बढ़ी है।   दिल्ली से संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में आने वाले ये लोग जिले में कितने लोगों से मिले हैं, यह चिंता का विषय है।  वहीं लॉकडाउन के मद्देनजर, ऐसा लगता है कि कोरोना केवल इनके परिवार के सदस्यों के अलावा अन्य लोगों तक नहीं फैला है।

लोगों का सहयोग जरूरी

करीमनगर के लोग और अधिकारी 18 तारीख के बाद से ही एकजुटता से अपनी भूमिका निभा रहे हैं। करीमनगर जिले में, 18 पॉजिटिव मामले प्राप्त हुए, जिनमें से 13 नेगेटिव थे और वे डिस्चार्ज भी हो गए। केवल तीन प़ॉजिटिव थे। अन्य दो के परिणाम अभी आने बाकी हैं। 
मंत्री गंगुला कमलाकर ने कहा कि- हमने मरकज से आए सभी लोगों को क्वारेंटाइन किया है। उनके परिवार के सदस्य भी अस्पताल और घर में क्वारेंटाइन में हैं। मुख्यमंत्री केसीआर के आदेशानुसार कोरोना के रोकथाम के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें : 

करीमनगर जिले में कोरोना वायरस से संक्रमण का एक और मामला दर्ज​

करीमनगर के 17 लोग भी गए थे तबलीगी जमात मरकज , जिले में मची खलबली

Advertisement
Back to Top