कोरोना की जंग जीत चुके ये 50 लोग निहार रहे अपनों की राह, नहीं ले जा रहे घरवाले

Hyderabad kin of over 50 recovered covid patients refuse to take them home - Sakshi Samachar

तेलंगाना में नहीं थम रहा कोरोना का कहर 

कोरोना वायरस से ठीक भी हो रहे मरीज 

स्वस्थ हुए मरीजों को भी नहीं अपना रहे परिवार

हैदराबाद: शहर में जहां एक ओर कोरोना वायरस फैलता जा रहा है वहीं इससे मरीज पूरी तरह ठीक भी हो रहे हैं। वहीं कोविड-19 से पूरी तरह ठीक हो चुके 50 से अधिक मरीज तो ऐसे भी हैं जिन्हें परिवार वाले संक्रमित होने के डर से घर नहीं ले जाना चाहते। 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया कि इन लोगों को डर है कि कहीं उनको घर ले जाकर ये लोग कोरोना से संक्रमित न हो जाए। यो लोग सरकार को उन्हें राज्य-संचालित क्वारेंटाइन सेंटर में रखने के लिए मजबूर कर रहे हैं।  गांधी अस्पताल में कोविड-19 के नोडल अधिकारी डॉ प्रभाकर राव के अनुसार, लगभग 50 ऐसे लोगों को नेचर क्योर अस्पताल में रखा गया है जिनके परिजन उन्हें घर ले जाने के लिए आगे नहीं आए।

डॉ प्रभाकर राव ने बताया कि “हमारे पास 60 ऐसे मामले थे जहां रिश्तेदारों या परिवार के सदस्यों ने स्वस्थ हुए लोगों को इस डर से घर ले जाने से इनकार कर दिया कि वे और उनके बच्चे भी संक्रमित हो जाएंगे। हम उन्हें समझाने की कोशिश कर रहे हैं। अब ऐसे 50 लोगों को, जिनमें पुरुष और महिलाएं शामिल है, को नेचर क्योर अस्पताल में रखा जा रहा है”।

इन स्वस्थ हुए मरीजों में से कुछ वृद्ध लोग हैं, जिनमें एक 93 वर्षीय महिला भी शामिल है और अभी भी गांधी अस्पताल में कई लोग हैं, जबकि बाकी लोगों को विभिन्न सुविधाओं के लिए भेजा गया है।

डॉ प्रभाकर राव ने कहा कि “हम परिजनों पर पुलिस बल का उपयोग नहीं कर सकते हैं और उन्हें वापस घर ले जाने के लिए सिर्फ कह सकते हैं। हम यह कहते हुए उनकी काउंसलिंग कर रहे हैं कि स्वस्थ व्यक्तियों की वजह से कोई नुकसान नहीं होगा। हमारे समझाने के बाद कुल तीन या चार लोगों को परिवार वाले घर ले गए।

राज्य द्वारा संचालित गांधी अस्पताल जिसे कोविड-19 उपचार सुविधा घोषित किया गया था, वर्तमान में 723 रोगियों का इलाज कर रहा है, जिनमें से 350 से अधिक ऑक्सीजन की आपूर्ति पर हैं। उनके अनुसार, गांधी अस्पताल में नियमित मोर्चरी में 65 से 70 शव हो सकते हैं। अस्पताल ने लगभग 20 निकायों की क्षमता वाले कोविड-19 मौतों के लिए एक विशेष मुर्दाघर की स्थापना की है।

प्रभाकर राव ने कहा कि कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुसार विशेष मुर्दाघर को संभालने के लिए अलग-अलग टीमें बनाई गई हैं।

राज्य सरकार के एक बुलेटिन में कहा गया है कि रविवार रात तक तेलंगाना में 14,419 कोविड -19 पॉजिटिव केस और 5,172 लोगों को छुट्टी दे दी गई है, जबकि 9,000 लोग इलाज करवा रहे हैं।
 

इसे भी पढ़ें : 

दुविधा : फिर से लॉकडाउन की बात कह रहे CM KCR, मंत्रीजी कह रहे कोरोना से मृत्यु दर बेहद कम

कोरोना : हैदराबाद पहुंची केंद्रीय टीम, शहर के विभिन्न अस्पतालों और लैब का करेगी निरीक्षण

Advertisement
Back to Top