सूत्र: हैदराबाद GHMC इलाके में 3 जुलाई से लॉकडाउन, ये है प्लान

Hyderabad GHMC Lockdown to announce soon know SOP  - Sakshi Samachar

हैदराबाद GHMC इलाके में फिर से लॉकडाउन

जानिए केसीआर सरकार की क्या है तैयारी?

हैदराबाद: तेलंगाना की केसीआर सरकार एक बार फिर हैदराबाद GHMC इलाके में कड़े लॉकडाउन लागू करने की तैयारी में है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 3 जुलाई से GHMC एरिया में बंदी का एलान किया जा सकता है। इस बारे में बुधवार या फिर गुरुवार को कैबिनेट मीटिंग में मुहर लगाई जा सकती है। इस बीच अधिकारियों को लॉकडाउन की रूपरेखा संबंधी रिपोर्ट तैयार करने में लगाया गया है। 

हैदराबाद GHMC लॉकडाउन को लेकर मंथन जारी

लॉकडाउन के चलते आर्थिक व्यवस्था के ठप पड़ने और नुकसान के मद्देनजर सरकार की कोशिश है कि कम से कम नुकसान हो। इसके चलते वरीय अधिकारियों की टीम अध्ययन में जुटी है। अकेले हैदराबाद में लगातार कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन को लेकर खुला संकेत पहले ही दे दिया है। बस औपचारिक एलान होना बाकी है। 

हैदराबाद GHMC इलाके के कन्टेनमेंट जोन में कड़ी पाबंदी

लॉकडाउन के दौरान बाहरी लोगों के हैदराबाद GHMC इलाके में नियंत्रित प्रवेश की अनुमति दी जा सकती है। खासकर कन्टेनमेंट जोन में सख्त पाबंदी लगाए जाने की उम्मीद है। कन्टेनमेंट जोन में लोगों को दिक्कत न हो लिहाजा जरूरी सामानों की आपूर्ति के लिए जन वितरण प्रणाली और डोर टू डोर डिलिवरी की व्यवस्था दुरुस्त की जा सकती है। दूध और जरूरी सामानों को मुहैया कराने के लिए कुछ घंटों की छूट मिल सकती है। राशन और मेडिकल सेवाओं को नियत समय के लिए खोलने की इजाजत दी जा सकती है। खासकर कन्टेनमेंट जोन में आवाजाही पर स्थानीय प्रशासन और पुलिस की कड़ी नजर होगी। बारिश के मौसम को देखते हुए प्रभावित इलाकों में कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार डोर टू डोर अभियान भी चला सकती है। सरकार को पता है कि अगर कन्टेनमेंट जोन में हालात नियंत्रित कर लिये गए तो समस्या को सुलझाना आसान होगा। 

बाजार और भीड़ भाड़ वाले इलाकों पर नजर 

हैदराबाद GHMC इलाके में पड़ने वाले ओल्ड सिटी को लेकर सरकार की चिंताएं अधिक हैं। बता दें कि चारमीनार इलाके के कई मार्केट व्यापारियों ने खुद फैसला लेकर बंद कर दिया है। ऐसे में सरकार भी साथ देगी और बाजारों में भीड़ न जुटने को लेकर कड़े नियम बनाएगी। इस बार लॉकडाउन चस्पा करने को लेकर सरकार लोगों की भावनाएं समझने की कोशिश करेगी। व्यापारियों को कम से कम नुकसान हो इसका भी खयाल रखा जाएगा। 

दफ्तरों में कर्मचारियों की संख्या कम करने पर जोर

हैदराबाद GHMC इलाके में निजी और राज्य सरकार के दफ्तरों में कर्मचारियों की संख्या सीमित करने की सिफारिश हो सकती है। सूत्रों के मुताबिक सरकार संस्थानों को पूरी तरह बंद करने के पक्ष में नहीं है। काम जारी रहने की स्थिति में निजी कंपनियों को नुकसान नहीं होगा। साथ ही कर्मचारियों को छंटनी जैसी स्थिति का सामना नहीं करना होगा। खासकर आईटी कंपनियों को लेकर सरकार वर्क फ्रॉम होम जैसे दिशा-निर्देश जारी कर सकती है। इस बारे में प्रबंधन को ही अंतिम फैसला लेने की छूट होगी। बता दें कि हैदराबाद की कई आईटी कंपनियों ने पहले ही अक्टूबर तक कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम की व्यवस्था कर रखी है। 

कितने दिनों का होगा हैदराबाद GHMC लॉकडाउन 

हैदराबाद बंदी 15 दिनों के लिए हो सकता है। इसके बाद राज्य सरकार लॉकडाउन के फायदों की समीक्षा करेगी। अगर संक्रमण के मामलों में कमी आती है तो सीमित तौर पर लंबे समय के लिए इसे लागू रख सकती है। लॉकडाउन के दौरान आम नागरिकों को सरकार की ओर से जारी प्रोटोकॉल का पालन करना जरूरी होगा। 

लॉकडाउन के दौरान 24*7 टेस्टिंग की व्यवस्था

15 दिनों के संभावित लॉकडाउन में सरकार संक्रमितों की पहचान करेगी। इसके लिए 24 घंटे सैंपल कलेक्शन की व्यवस्था कराई जाएगी। खासकर किंग कोटी स्थित गवर्नमेंट जेनरल अस्पताल और कुछ नामित सरकारी अस्पतालों में सैंपल कलेक्शन की मुकम्मल व्यवस्था होगी। एक्सपर्ट्स की राय है कि जब तक संक्रमितों की पहचान नहीं हो पाती है, लॉकडाउन का पूरी तरह फायदा नहीं मिल सकेगा। 

हैदराबाद लॉकडाउन के दौरान पास की नई व्यवस्था

हाई रिस्क जोन से बाहर जाने के लिए पास के कड़े प्रावधान की बात कही जा रही है। इस बार कन्टेनमेंट जोन से आवाजाही के लिए पास लेना इतना आसान नहीं होगा। पहले की ही तरह शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक कर्फ्यू की स्थिति होगी। इस दौरान दवा दुकानों और एमरजेंसी सेवाओं को छूट मिल सकती है। सरकार जरूरी सेवाओं के लिए ऑनलाइन आपूर्तिकर्ताओं को रियायतें दे सकती है। 

शराब बिक्री पर फिर से लगेगी पाबंदी

हैदराबाद लॉकडाउन के दौरान एक बार फिर से शराब दुकानों को बंद करने के आसार हैं। इसको देखते हुए शराब दुकानों में स्टॉक करने के लिए लोग अधिक खरीदारी कर रहे हैं। सरकार का मानना है कि शराब पीने के चलते कोरोना संक्रमण का खतरा अधिक होता है। लिहाजा लोगों को नशे से दूर रखने की हिदायत दी जाएगी। सरकार उन परिस्थितियों पर भी नजर रखेगी कि कोई शराब पीने के लिए हैदराबाद जीएचएमसी इलाके से बाहर न जाए। 

हैदराबाद GHMC इलाकों में बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेजेज

सरकार ने इससे पहले स्कूल कॉलेज खोलने को लेकर तारीख का एलान किया था। माना जा रहा है कि हैदराबाद में शैक्षणिक संस्थान खोलने को लेकर सरकार कोई हड़बड़ी नहीं दिखाएगी। ऊंची कक्षाओं के लिए ऑनलाइन क्लासेस की व्यवस्था की सरकार इजाजत दे सकती है। सरकारी स्कूलों के लिए भी सरकार कुछ मुकम्मल इंतजाम की तैयारी में है। कुल मिलाकर लॉकडाउन को अमल में लाने के लिए म्यूनिसिपैलिटीज और स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदारी दी जाएगी। 
 

Advertisement
Back to Top