जोर पकड़ने लगी हैदराबाद से दरभंगा के लिए सीधी उड़ान सेवा की मांग

Hyderabad Darbhanga flight connectivity demands Ittehad Welfare Association  - Sakshi Samachar

हैदराबाद-दरभंगा के बीच सीधी उड़ान सेवा की मांग

नागरिक उड्डयन मंत्री को लिखी गई चिट्ठी 

हैदराबाद: महानगर में सक्रिय स्वंयसेवी संस्था इत्तेहाद वेलफेयर एसोसिएशन (Ittehad Welfare Association) ने हैदराबाद (Hyderabad) से दरभंगा (Darbhanga) के बीच सीधी उड़ान सेवा (Direct flight Service) के लिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) से अनुरोध किया है। इस बारे में संस्था ने हस्ताक्षर अभियान चलाकर हजारों की संख्या में लोगों से सहमति ली। अपुष्ट आंकड़ों और दावों के मुताबिक हैदराबाद में करीब तीस लाख प्रवासी बिहारी रहते हैं। इनमें बड़ी संख्या में लोगों का उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों से नाता है। इससे पहले दरभंगा, शिवहर, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर और कई जिलों के लोगों के लिए पटना एयरपोर्ट ही अकेला विकल्प था। पटना हवाई अड्डे पर उतरने के बाद फिर सड़क मार्ग से लंबे सफर के बाद ही ये घर पहुंच पाते थे। दरभंगा एयरपोर्ट शुरू होने के बाद इन्हें लगा कि अब ये सीधी उड़ान भरकर अपने इलाके की दहलीज पर कदम रख सकेंगे। 

इन्हें झटका तब लगा जब बीते 8 नवंबर को शुरू दरभंगा एयरपोर्ट से दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु के लिए उड़ान सेवाओं की शुरुआत हुई। जबकि इस फेहरिस्त में हैदराबाद को छोड़ दिया गया। इसको लेकर हैदराबाद में संगठित और व्यक्तिगत तौर पर लोग लगातार सीधी उड़ान सेवा की डिमांड कर रहे हैं। बातचीत के क्रम में इत्तेहाद वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष नासिर सिद्दीकी ने बताया कि हैदराबाद में दरभंगा के लिए सीधी उड़ान भरने वाले यात्रियों की संख्या काफी अधिक है। जनसंख्या के दबाव के बावजूद हैदराबाद और बिहार के बीच ट्रेनें भी काफी कम हैं। जिसमें रिजर्वेशन मिलना काफी मुश्किल होता है। ऐसे में सीधी उड़ान सेवा बढ़िया विकल्प है, जिसे जितनी जल्दी हो चालू किया जाना चाहिए।  


डॉ मुहम्मद मुस्लिफुद्दीन, उपाध्यक्ष, इत्तेहाद वेलफेयर एसोसिएशन 

इत्तेहाद वेलफेयर एसोसिएशन (Ittehad Welfare Association) के उपाध्यक्ष डॉ मुहम्मद मुस्लिफुद्दीन ने बताया कि जबसे दरभंगा एयरपोर्ट के निर्माण की शुरुआत हुई थी, तभी से हैदराबाद के लोग उम्मीदें लगाए बैठे थे कि उनका सफर आसान हो जाएगा। उन्होंने कहा कि बिहार जाने वाले लोगों की तादाद इतनी अधिक है कि हवाई यात्रा के लिए भी लोगों को वाया दिल्ली या फिर मुंबई के रास्ते सफर करना पड़ता है। उपाध्यक्ष डॉ मुहम्मद ने कहा कि बड़ी तादाद में लोग उनकी संस्था को फोन कर संगठित आवाज के लिए गुजारिश कर रहे हैं। वहीं इस सिलसिले में संस्था से जुड़े सरफराज अहमद ने बताया कि हैदराबाद से सीधी फ्लाइट शुरू नहीं होने के चलते उन्हें काफी मायूसी हुई है। 

दरभंगा एयरपोर्ट पर और टर्मिनल बनाने का काम जारी

आधिकारिक जानकारी के मुताबिक दरभंगा एयरपोर्ट को और बेहतर करने की प्रक्रिया जारी है। एयरपोर्ट अथॉरिटी की तरफ से बताया गया है कि जैसे जैसे नए टर्मिनल शुरू होते जाएंगे, उसी के हिसाब से विभिन्न शहरों की कनेक्टिविटी बढ़ेगी। एएआइ ने एयरफोर्स से टर्मिनल विस्तार के लिए ढाई एकड़ जमीन की मांग की है। जिसकी स्वीकृति मिलने पर एक बार फिर टर्मिनल बनाने का काम शुरू किया जाएगा। गेट नंबर दो के पास ही पार्किंग का काम भी अभी होना बाकी है। बता दें कि करीब पांच दशक पहले दरभंगा में एयरपोर्ट को लेकर तत्कालीन सरकार ने विचार किया था। वक्त की मांग के साथ अब ये हवाईअड्डा शुरू तो हुआ है, वहीं यात्रियों की मांगों को पूरा किया जाना अभी भी बाकी है।

 

दरभंगा के बाद देवघर में भी एयरपोर्ट की मांग

बता दें कि दरभंगा और झारखंड के देवघर में एयरपोर्ट बनाने की मांग एक साथ शुरू हुई थी। इसको लेकर दरभंगा बाजी मार ले गया। वहीं अब बाबा नगरी देवघर में भी एयरपोर्ट तत्काल शुरू करने पर जोर दिया जा रहा है। क्षेत्रीय उड़ान सेवा की केंद्र सरकार की कोशिशों  के तहत ही देवघर में हवाईअड्डा के निर्माण की योजना है। ताकि देशभर से लोग बैद्यनाथ धाम ज्योतिर्लिंग के दर्शनों के लिए आसानी से पहुंच सकें। 
 

Advertisement
Back to Top