हैदराबाद में बढ़ रहे हनी ट्रैप के मामले, सोशल मीडिया के जरिए शादीशुदा मर्दों का शिकार

Honey trap cases increasing in Hyderabad  - Sakshi Samachar

अनजान लोगों से बचने की जरूरत

लोगों से सावधान रहने की अपील 

हैदराबाद: अब तक हनी ट्रैप (Honey trap) के मामले मुंबई-दिल्ली (Delhi-Mumbai) जैसे शहरों से ही ज्यादातर सामने आते हैं। लेकिन अब इन शहरों के साथ हैदराबाद (Hyderabad) का नाम भी जुड़ता हुआ दिखाई दे रहा है। सोशल मीडिया (Social media) पर दोस्ती करने के बाद हनी ट्रैप और फिर वसूली के मामले लगातार शहर में बढ़ते जा रहे हैं। जिसमें साइबर ठग शादीशुदा मर्दो को ही ज्यादातर निशाना बना रहे हैं।

ऐसे में यदि किसी आकर्षित महिला या लड़की की प्रोफाइल से सोशल मीडिया में फ्रेंड रिक्वेस्ट आए, तो खुशी में उसे एक्सेप्ट करने के बजाय फ्रोफाइल में जाकर जांच करने की आवश्यकता है। हैदराबाद सीसीएस पुलिस इस तरह के मामले को लेकर लगातार जागरूकता अभियान चला रही है, लेकिन इसके बावजूद हनी ट्रैप जैसे मामलों में कमी होती नहीं दिखाई दे रही है। जानकारी के अनुसार, हैदराबाद में पिछले 6 महीनों से इस तरह के मामलों की लगातार शिकायतें पुलिस को मिल रही हैं। 

वीडियो कॉल से स्क्रीन रिकोर्ड
एक शिकायत कर्ता ने बताया कि उसे फेसबुक पर सुंदर लड़की की फ्रेंड रिक्वेस्ट आयी थी। उसने तुरंत उसे स्वीकार कर लिया। इसके बाद दोनों के बीच बात शुरू हो गई। महज कुछ घंटों में वे काफी व्यक्तिगत और निजी विषयों पर बातचीत करने लगे। इस बीच मौका मिलते ही उसे वीडियो कॉल किया गया और जैसे ही उनसे कॉल उठाया उसका स्क्रीन शॉट और स्क्रीन रिकार्ड बना लिया गया।

इसके कुछ देर बाद अचानक वीडियो कॉल के स्क्रीन रिकोर्ड को अश्लील वीडियो में बदलकर उसे मैसेज किया गया और वीडियो डिलीट करने के एवज में पैसों की मांग की गई।

वीडियो इस तरह एडिट किया गया। जैसे- वीडियो में दिखाई दे रहा शख्स पीड़ित ही हो, लेकिन वास्तव में यह आधुनिक टेक्नोलॉजी का परिणाम था और अब पीड़ित पूरी तरह से साइबर ठग के शिकंजे में जा फंस गया था। बदनामी के डर से पीड़ित ने साइबर ठग को कुछ हजार ट्रांस्फर भी किए, लेकिन साइबर ठगों की ओर से लगातार पैसों की मांग की जा रही थी। आखिर में हताश होकर उसने पुलिस से शिकायत की। मामले में सीसीएस पुलिस की ओर से शिकायत दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है। 

अनजान लोगों से बचने की जरूरत
साइबर ठगो के हाथों शिकार होकर हजारों रुपए गंवाने वाले पीड़ित ने बताया कि सोशल मीडिया पर किसी से भी दोस्ती करने पहले उसके बारे में अच्छी तरह से पड़ताल करने की जरूरत है। बिना सोचे समझे महिला के नाम से आई फ्रेंड रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट किया और यही उसकी गलती थी। यदि सजगता के साथ महिला की प्रोफाइल को देखा जाता तो ठगी से बचा जा सकता था। उसने अब अन्य लोगों से सावधान रहने की अपील की है।

बता दें कि आजकर सोशल मीडिया उपयोग हर कोई करता है। लोग अपनी हर गतिविधि को पोस्ट करने लगे हैं। जो साइबर ठगों के लिए यह खुला निमंत्रण है। 

Advertisement
Back to Top