ग्रेटर हैदराबाद: हाल के दिनों में महानगर में बढ़ते अपराध से सहमे लोग

 Greater Hyderabad Crime Rate Gets Increased in recent  - Sakshi Samachar

ग्रेटर हैदराबाद में बढ़ा अपराध का ग्राफ

सनसनीखेज घटनाओं की फेहरिस्त से लोगों में भय

हैदराबाद: ग्रेटर हैदराबाद (Greater Hyderabad) और महानगर के आउटर हिस्से में हाल के दिनों में हत्या और लूट की कुछ जघन्य वारदातें हुई हैं, जिससे लोग सकते में है। इससे पहले हैदराबाद पुलिस कमिश्नर अंजनी कुमार (Anjani Kumar) ने महानगर में घटते अपराध दर पर संतोष जाहिर किया था। वहीं इससे सटे राचाकोंडा (Rachakonda) और साइबराबाद (Cyberabad) कमिश्नरेट में हाल की बड़ी घटनाओं ने लोगों को सशंकित कर दिया है। इन्हीं में से कुछ खास घटनाओं पर हम एक नजर डालते हैं, साथ ही बढ़ते अपराध की वजह खंगालने की कोशिश करते हैं। 

घटकेसर पुलिस थाना इलाके में अंकुशपुर रेलवे गेट के पास बीते दिनों अज्ञात महिला का शव मिलने से सनसनी फैल गई। महिला को बेदर्दी से मारा गया था। साथ ही उनकी पहचान मिटाने के लिए चेहरे को जला दिया गया था। पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद आखिरकार महिला की शिनाख्त की थी। जबकि आज भी मामले में किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। साल के शुरुआत के साथ ही 3 जनवरी को मेडचल जिले के नागाराम किसारा पुलिस थाने इलाके में महिला ने अपने ही हाथों पति की बर्बर हत्या कर दी। हालांकि मामले को घरेलू झगड़े का रंग दिया गया और पुलिस की दलील है कि पति की शराब की लत से तंग आगर महिला ने घटना को अंजाम दिया। 


हैदराबाद: शख्स को पीट पीटकर मार डाला 

अगले ही दिन यानी 4 जनवरी को शहर के कुकटपल्ली इलाके में फूलों का कारोबार करने वाले कृष्णा की निर्ममता से हत्या कर दी गई। पांच दिन बाद ही 9 जनवरी को बलकमपेट में बेटे ने बेरहमी से अपनी मां का कत्ल कर दिया। अगली घटना तो और भी हिला देने वाली है। दो युवकों ने रियाज नाम के ऑटो ड्राइवर को मार डाला। फिर उसकी डेड बॉडी को सूटकेस में रखकर कुकटपल्ली के राजेंद्र नगर डेयरी फार्म इलाके में फेंक दिया। हत्यारोपियों का कहना है कि मृतक उसकी बहन के साथ छेड़खानी करता था। 

अगली घटना तो बेहद सनसनीखेज थी। उधार नहीं चुकाने के चलते युवक को भरे बाजार पीट पीटकर मार डाला गया। तीन युवकों ने भीड़भाड़ वाले मेंहदीपट्टनम से आरामघर तक शख्स को खदेड़ते हुए डंडे और रॉड से पीट पीटकर हत्या की। इस दौरान सैंकड़ों लोग तमाशबीन बने रहे। दुखद ये कि हत्या के बाद आरोपी मजे से मौका-ए-वारदात से चलते बने।

बोवेनलपल्ली के चर्चित अपहरण कांड में आरोपी बड़े आराम से शहर में घूमते हुए पाये गए। हैरानी इस बात की कि मामले में पीड़ित हैदराबाद की सड़कों पर गाड़ी में करीब 8 घंटों तक अपहर्ताओं के चंगुल में रहा। बावजूद पुलिस को भनक तक नहीं लग सकी। हाईप्रोफाइल इस मामले में तेलंगाना पुलिस गहन जांच पड़ताल कर रही है। डबिरपुरा पुलिस थाना इलाके में जमीनी विवाद में रिवॉल्वर के दम पर एक शख्स ने पीड़ित को धमकाया। सरेआम दी गई इस धमकी से इलाके के लोगों में दहशत है। पुलिस जांच में पता चला कि मामले के आरोपी का पुराना आपराधिक इतिहास रहा है। 


हैदराबाद में सूटकेस में लाश 

लगातार हो रही घटनाओं से पुलिस परेशान 

ग्रेटर हैदराबाद और महानगर इलाके में लगातार हो रही जघन्य वारदातों से जहां आम लोग सहमे हुए हैं। वहीं पुलिस के आलाधिकारी भी सकते में हैं। हैदराबाद और बाकी दोनों कमिश्नरेट की तरफ से जगह जगह सीसीटीवी कैमरे लगे होने का दावा किया जाता है। जबकि हालत ये है कि अपराधियों को इन कैमरों का भी खौफ नहीं रहा, उन्हें इस बात की चिंता नहीं कि अपराध के बाद वो पुलिस की गिरफ्त में होंगे। 

आपराधिक घटनाओं का सामाजिक विश्लेषण

हैदराबाद में हाल के दिनों में हुई घटनाओं के पीछे आर्थिक पहलू काफी अहम है। पैसों का विवाद या फिर घरेलू प्रताड़ना के चलते ही अधिकांश वारदातें हुई हैं। कोरोना संक्रमण के इस दौर में कई लोगों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ी है। समाजशास्त्रियों का भी मानना है कि जहां अभाव होता है वहीं विवाद की स्थिति पैदा होती है। चोरी चकारी की छिटपुट घटनाएं तो बढ़ी ही है। साथ ही हताश और परेशान लोगों के खुदकुशी करने की घटनाओं में भी इजाफा हुआ है। जो परिस्थितियां बन रही है उसमें महज पुलिस एक्शन से काम नहीं चलेगा, बल्कि सरकार को समग्र तरीके से उपाय करने होंगे। लोगों की बुनियादी परेशानियों को समझते हुए सरकारी स्तर पर उचित व्यवस्था करनी होगी। पुलिस अपनी मुस्तैदी से लोगों में सुरक्षा को लेकर आत्मविश्वास बहाल रख सकती है। 

Advertisement
Back to Top