कोरोना का रियल इस्टेट के लेन-देन पर हुआ असर, आय पटरी पर आने में लगे तीन महीने

Effect of corona on revenue of registration in telangana - Sakshi Samachar

पहले त्रैमासिक की आय 600 करोड़ रुपये

आम तौर पर एक महीने में 500 करोड़ से भी अधिक आय 

हैदराबाद : कोरोना वायरस का असर पंजीकरण पर देखा गया। राज्य में एक महीने की आय तीन महीने के बराबर हुई। आर्थिक वर्ष के पहले त्रैमासिक में रजिस्ट्रेशन विभाग की आय 600 करोड़ रुपये बताई गई। कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर जारी लॉकडाउन के चलते अप्रैल में रजिस्ट्रेशन की गतिविधियां थम गई। इससे उस महीने में 12 करोड़ रुपये का लेन-देन हुआ। मई की 8 तारीख से रजिस्ट्रेशन की गतिविधियां फिर से शुरू हुई। मई में रजिस्ट्रेशन विभाग की आय केवल 200 करोड़ रुपये हुई। जून में रियल इस्टेट का लेन-देन बढ़ने से रजिस्ट्रेशन विभाग की आय 400 करोड़ रुपये पर पहुंची। आम तौर पर बीते तीन महीनों में 1,500 से 1,800 करोड़ रुपये होती है लेकिन इस दौरान 600 करोड़ रुपये आय हुई। बताया जा रहा है कि जून में विभाग की आय आशा के मुताबिक ठीक है। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में रियल इस्टेट का व्यापार जोर पर चलता है। जुलाई में साधारण तौर पर विभाग को होने वाली आय होती रहेगी। रजिस्ट्रेशन विभाग के एक अधिकारी ने यह आशाभाव व्यक्त किया। 

कोरोना के इफेक्ट से रजिस्ट्रेशन की गतिविधियां थम गई थी
सही मायने में राज्य में रजिस्ट्रेशन विभाग की आय हर महीने 500 से 600 करोड़ रुपये होती है। हर रोज 5 हजार तक का लेन-देन होते हुये 20 करोड़ रुपये तक आय होती थी लेकिन कोरोना के इफेक्ट से रजिस्ट्रेशन की गतिविधियां जहां के तहां रूक गई थीं। लोगों का घर से बाहर आना संभव नहीं होने, अन्य राज्यों से आना-जाना रूक जाने और लोगों के पास नकदी नहीं होने से फरवरी और मार्च में स्थगित रियल इस्टेट का लेन-देन फिर नहीं शुरू नहीं हो सका। इससे पहले हुये करार स्थगित हो गये। साधारणत: अप्रैल और मई में रियल इस्टेट का लेन-देन अधिक होता है। कृषि भूमि का बिक्री-खरीदी नहीं हुई। इससे लगभग मार्च में आधा और अप्रैल तथा मई में पूरी तरह से रजिस्ट्रेशन की गतिविधियां रूक गई। 

इसे भी पढ़ें :

इसलिए भी आप कर सकते हैं चीनी सामानों का बहिष्कार, जानिए क्या हैं वजहें...

लॉकडाउन में ढ़ील के बाद पटरी पर आई रजिस्ट्रेशन विभाग की आय
कोरोना की रोकथाम को लेकर जारी लॉकडाउन में ढील दिये जाने पर बीते दो महीने में रूका भूमि का लेन-देन जून में शूरो होने पर रजिस्ट्रेशन विभाग की आय बढ़ी। मुख्य तौर पर हैदराबाद और रंगारेड्डी जिलों में रियल इस्टेट का लेन-देन सोच से परे हुआ। लोगों के पास नकदी बढ़ी और साथ ही बैंक ने ऋण उपलब्ध किया। अन्य राज्यों से आने-जाने से तेलंगाना में आने की अनुमति मिलने पर बीते दिनों बने बड़े वेंचर्स और समझौते पूरे हुये। इससे जून में कुल मिला कर हर रोज 14 करोड़ रुपये की आय रजिस्ट्रेशन विभाग को हुई। इसमें 70 प्रतिशत से अधिक हैदराबाद और रंगारेड्डी जिलों में होने की जानकारी विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने दी। इसलिए जून में आय 400 करोड़ रुपये होने की बात बताई जा रही है। रजिस्ट्रेशन विभाग सोच रही है कि जुलाई में आय और बढ़ कर पहले की तरह जारी रहेगी। 

Advertisement
Back to Top