केरल, महाराष्ट्र के बाद तेलंगाना में मिला कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन

Covid-19 : New Coronavirus Strains in Telangana - Sakshi Samachar

तेलंगाना में मिला कोरोना का नया स्ट्रेन

महाराष्ट्र, केरल में सार्स-सीओवी-2 के दो नए स्वरूप

स्वास्थ्य मंत्रालय हालात पर रख रहा नजर, केंद्रीय टीम एक्टिव

हैदराबाद : देश में एक बार फिर बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले पर केंद्र सरकार अलर्ट हो गई है। केंद्र सरकार ने मंगलवार को कहा कि महाराष्ट्र (Maharashtra) और केरल में सार्स-सीओवी-2 के दो नए स्वरूप - एन440के और ई484के- मिले हैं लेकिन फिलहाल यह मानने का कोई कारण नहीं है कि इन दोनों राज्यों के कुछ जिलों में मामलों में बढ़ोतरी के लिये ये दोनों स्वरूप जिम्मेदार हैं। वायरस के इन दोनों स्वरूपों में से एक तेलंगाना (Telangana) में भी मिला है।

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने कहा कि देश में अब तक सार्स-सीओवी-2 के ब्रिटिश स्वरूप से 187 लोग जबकि वायरस के दक्षिण अफ्रीकी स्वरूप से छह लोग संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा वायरस के ब्राजीलीयाई स्वरूप से भी एक व्यक्ति संक्रमित पाया गया है। 

पॉल ने कहा, “महाराष्ट्र, केरल और तेलंगाना में सार्स-सीओवी-2 के एन440के और ई484के , दोनों स्वरूप मिले हैं। इसके अलावा तीन अन्य स्वरूप - ब्रिटिश, दक्षिण अफ्रीकी और ब्राजीलीयाई- पहले से ही देश में मौजूद हैं। लेकिन वैज्ञानिक सूचना के आधार पर हमारे लिए यह मानने का कोई कारण नहीं है कि महाराष्ट्र और केरल के कुछ जिलों में संक्रमण के मामलों में तेजी के लिये यह जिम्मेदार हैं।” 

आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा, “महाराष्ट्र और कुछ अन्य राज्यों में कोविड-19 को मामलों में हालिया बढ़ोतरी का वायरस के नए स्वरूप एन440के और ई484क्यू से कोई सीधा संबंध नहीं है।” उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि अन्य देशों में भी वायरस के ये दोनों स्वरूप मिले हैं और यह सिर्फ भारत केंद्रित नहीं हैं। इतना ही नहीं वे भारत में पहले कुछ अन्य राज्यों में भी पाए जा चुके हैं। 

वायरस के ई484क्यू स्वरूप के चार अनुक्रम महाराष्ट्र में मार्च और जुलाई 2020 में भी मिल चुके हैं। वहीं मई और सितंबर 2020 के बीच13 अलग-अलग मौकों पर एन440के स्वरूप तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और असम में सामने आ चुके है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में मामलों में हाल में हुई वृद्धि को इन स्वरूपों से जोड़कर नहीं देखा जा सकता। 

उन्होंने कहा कि अगर भविष्य में कोई वैज्ञानिक साक्ष्य सामने आता है तो उसे साझा किया जाएगा। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि हाल में जिन राज्यों में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है उनमें से कुछ में स्वास्थ्य मंत्रालय ने केंद्रीय दल भेजा है जबकि कुछ और राज्यों में ऐसे दल भेजे जाएंगे। 

Advertisement
Back to Top