कोरोना के संदेह में घंटों सड़क पर पड़ी रही लाश, मानवता पर लग रहा कलंक

corpse lying on road for suspicion of Corona in vikarabad of telangana - Sakshi Samachar

वायरस लोगों को एक-दूसरों की भावनाओं से दूर कर रहा है

मानवता को हिलौरे देने वाली घटना घटी

विकाराबाद : कोरोना वायरस ने मानवता पर सवालिया निशान पैदा कर दिया है। वायरस लोगों को एक-दूसरों की भावनाओं से दूर कर रहा है। कोरोना संक्रमित मरीज के पास कोई जाना नही चाहता। चिकित्सा कर्मचारी पीपीई किट पहन कर मरीजों के पास तो जा रहे हैं, लेकिन उनके मन में डर बैठ गया है। वे खुद को भी कोरोना के संक्रमण से बचाते नजर आ रहे हैं। 

ऐसे एक हादसे की पुनरावृत्ती हुई। तेलंगाना में विकाराबाद जिले के धारुर मंडल में दिल को कुंठित करने वाले घटना घटी। धारुम मंडल में केरेल्ली गांव के निकट मानवता पर कलंक लगने वाली घटना देखी गई। एक महिला और उसके परिवार के सदस्य बस में सफर कर रहे थे। इस बीच अचानक वह बेहोश हो गई। उन्होंने बस रोकी और महिला को जगाने का प्रयास किया लेकिन काफी देर तक वह टस से मस नहीं हुई। उसकी जान चली गई थी। 

परिवार के सदस्य बेहोश महिला को बस से नीचे उतारा। बस आगे के लिए निकल गई। महिला को मरा देख परिवार के सदस्य काफी देर तक बिलखते रहे। इस दौरान अन्य किसी भी व्यक्ति ने उनके नजदीक आने की हिम्मत नहीं जुटाई। कई घंटों तक वे सभी सड़क पर ही लाश को लेकर बैठे रहे। 

कुछ दिनों पहले हैदराबाद से लगभग 60 किमी दूरी पर स्थित छगुंटा के निकट मानवता को हिलौरे देने वाली घटना घटी। निजामाबाद से हैदराबाद की ओर बस में आ रहे एक व्यक्ति की हालत अचानक बिगड़ गई। उसने ड्राइवर को गाडी रोकने के लिए कहा और बस से नीचे उतर गया। वह सोच रहा था कि गांव में किसी अस्पताल में वह चिकित्सा परीक्षण करवायेगा। वह रास्ते से चलने लगा लेकिन अचानक नीचे गिर पड़ा। वह काफी घंटे तक सड़क किनारे ही पड़ा रहा। उसने सड़क से गुजरने वाले व्यक्तियों को अस्पताल पहुंचाने का अनुरोध किया। लोगों के हाथ जोड़े और पैर छुए लेकिन किसी ने उसे अस्पताल में भर्ती कराने जरूरत नहीं समझी। 

Loading...
Related Tweets
Advertisement
Back to Top