सिंचाई योजनाओं का 15 प्रतिशत काम को पूरा करने में आना-कानी कर रहे KCR : कांग्रेस

 uttam kumar reddy says kcr neglecting to complete 15 percent of irrigation projects - Sakshi Samachar

योजनाओं को पूरा करने में असफल हुये केसीआर

केसीआर के विरोध में कांग्रेस करेगी धरना प्रदर्शन

हैदराबाद : तेलंगाना में परियोजनाओं के नाम पर मुख्यमंत्री केसीआर ने बड़े पैमाने पर धांधलियां की है। लाखों रूपये की लागत से कालेश्वरम परियोजना का कार्य शूरू किया लेकिन एक एकड़ भूमि में सिंचाई नहीं हुई है। लंबित सिंचाई योजनाओं को पूरा करने का छोड़ उसी एक कालेश्वरम परियोजना पर सीएम ने ध्यान बटोरा है। ग्रैविटी का उपयोग कर परियोजनाओं में जलापूर्ति करने की आवश्यकता केसीआर को महत्वपू्र्ण लग रही है। तेलंगाना कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने सिंचाई योजनाओं को लेकर केसीआर पर सवालों की झड़ी लगा दी। 

तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा कि जल दीक्षा कार्यक्रम को सफल बनाने में केसीआर के नेतृत्व में बनी तेलंगाना सरकार असफल हुई है। कांग्रेस सरकार की असफलता के प्रति लोगों को जागरूक  करेगी। इसके इसके लिए तेलंगाना कांग्रेस के नेतृत्व में सरकार के रवैये के विरोध में धरना प्रदर्शन किया जायेगा। इसकी शुरुआत तेलंगाना स्थापना दिवस से की जायेगी। 

टीपीसीसी अध्यक्ष ने केसीआर पर आरोप लगाया कि जलाशय में पानी दिखा कर सीएम ने निधियां हड़प करने का कार्यक्रम शुरू किया है। कांग्रेस के कार्यकाल में जारी की गई सिंचाई योजनाओं को पूरा करने की बजाय केसीआर रि-डिजाइन कर धांधलियों को बढ़ावा दे रहे है। सिंचाई योजनाओं के निर्माण में करोड़ो रुपये खर्च कर सरकार पूरा करने में देरी रही है। 

इसे भी पढ़ें :

दुम्मुगुड़ेम परियोजना के निर्माण कार्य के टेंडरों में भारी घपला : कांग्रेस

कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि कांग्रेस के कार्यकाल में कल्वाकुर्ती, नेट्टेमपाडू, भीमा, एसएलबीसी, देवादुला योजनाओं का कार्य 85 प्रतिशत पूरा हो चुका है, लेकिन केवल 15 प्रतिशत कार्य पूरा करने में केसीआर नजरअंदाज कर रहे हैं। केवल 2 से 3 हजार करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाती है तो योजनाओं का काम पूरा होकर सिंचाई के लिए जल उपलब्ध हो सकता है। सिंचाई क्षेत्र में लगभग 100 टीएमसी जलापूर्ति की जा सकती है। इसके अलावा 6.40 लाख एकड़ भूमि की सिंचाई के साथ पेयजल उपलब्ध हो सकता है। आदिलाबाद जिले में लगभग 2 लाख एकड़ भूमि के लिए पानी उपलब्ध होगा। 

Advertisement
Back to Top