जीएचएमसी चुनाव 2020 : टीआरएस को लगा झटका, वरिष्ठ नेता हुए भाजपा में शामिल

trs leader swamy goud joins bjp ahead of ghmc elections 2020 - Sakshi Samachar

दिल्ली भाजपा केंद्रीय कार्यालय पहुंचे स्वामी गौड़

तेलंगाना के राजनीतिक गलियारे में हो रही उथल पुथल

हैदराबाद : टीआरएस (TRS) के वरिष्ठ नेता स्वामी गौड़ (Swamy Goud) भाजपा में शामिल हुए। स्वामी गौड़ ने भाजपा (BJP) राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) के समक्ष कार उतर कर कमल का फूल थामा। जेपी नड्डा ने पार्टी का अंगवस्त्र ओढ़ाकर स्वामी गौड़ का पार्टी में स्वागत किया। 

जीएचएमसी चुनाव (GHMC Elections 2020) में  टीआरएस पार्टी के वरिष्ठ नेता भाजपा में शामिल होने से टीआरएस को झटका लगा। तेलंगाना में ग्रेटर हैदराबाद चुनाव 2020 के दौरान राजनीतिक गलियारों में तेजी से उथल पुथल हो रही है। इस बार किसी भी तरह जीएचएमसी पर भगवा फहराने का भाजपा भरसक प्रयास कर रही है।  आपको बता दें कि ग्रेटर हैदराबाद के चुनाव भाजपा ने अपनी कूटनीति को अपना रही है। चुनावी प्रचार पर ध्यान देते हुए दूसरी ओर टीआरएस और कांग्रेस में नाराज चल रहे नेताओं को पार्टी खेमें में शामिल करने पर जोर दे रही है। 

भाजपा में शामिल होने के बाद स्वामी गौड़ ने कहा कि भाजपा में शामिल होना, घरवापसी जैसा महसूस हो रहा है। तेलंगाना का ध्वज नहीं पकड़नेवालों को केसीआर ने प्राथमिकता दी है। हमें धूप में खड़ा रखा। तेलंगाना के लिए संघर्ष करनेवालों को न्याय मिलेगा, यह सोचकर भाजपा में शामिल हुए हैं। सैंकड़ो बार केसीआर से मुलाकात करना चाहा, लेकिन पिछले दो साल में एक बार भी मुझसे नहीं मिले। तेलंगाना के लिए संघर्ष करनेवालों को न्याय दिलाने के उद्देश्य से ही वह भाजपा में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि टीआरएस में कई लोगों की अवमानना हुई है। स्वामी गौड़ ने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि तेलंगाना में भाजपा की स्थिति और मजबूत होगी। जीएचएमसी के मेयर सीट पर भाजपा का ही उम्मीदवार बैठेगा। 

इसे भी पढ़ेें

GHMC Elections : हैदराबाद से शुरू करके पूरा दक्षिण भारत ‘भगवा रंग' में रंग जाएगा : तेजस्वी सूर्या

'ब्रांड हैदराबाद' को कितनी टक्कर दे सकेगा 'चेंज हैदराबाद'

टीआरएस के वरिष्ठ नेता स्वामी गौड़ बुधवार को दिल्ली भाजपा केंद्रीय कार्यालय पहुंचे। उन्होंने जेपी नड्डा से मुलाकात की। तत्पश्चात भाजपा में शामिल होने की घोषणा की। स्वामी गौड़ के साथ सांसद रमेश और रामचंद्र राव थे। 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top