सांसद ने ओवैसी ने प्रश्नकाल रद्द किये जाने पर केंद्र को गलत ठहराया, बोले-सवाल करना हमारा अधिकार है

 MP Owaisi Fires On Center for Cancellation of Question Hour in Monsoon Session - Sakshi Samachar

मानसूत्र में प्रश्नकाल को कोरोना संकट का हवाला देते हुए रद्द

सांसद ओवैसी ने कहा सवाल करना हमारा अधिकार है

हैदराबाद : सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) असदुद्दीन ओवैसी ने संसद के आगामी मानसून सत्र में प्रश्नकाल नहीं होने से जुड़ी अधिसूचना को लेकर बुधवार को आरोप लगाया कि सरकार देश की संसद को नोटिस बोर्ड बनाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि सवाल करना हमारा अधिकार है।

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार से सवाल करना संसदीय लोकतंत्र के लिए जीवनदान की तरह होता है और प्रश्नकाल से जुड़े इस निर्णय को उचित नहीं ठहराया जा सकता।

14 सितंबर से शुरू हो रहे मानसूत्र में प्रश्नकाल को कोरोना संकट का हवाला देते हुए सरकार ने इसे रद्द कर दिया है। एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने कहा कि 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान सर्वदलीय बैठक के बाद ही प्रश्नकाल को रद्द किया गया था। मगर मोदी सरकार ने प्रश्नकाल रद्द करने को लेकर सर्वदलीय बैठक नहीं बुलाई है।

यह भी पढ़ें :

प्रश्नकाल के निलंबन पर शशि थरूर बोले, 'संसद को नोटिस बोर्ड बनाने की कोशिश में सरकार'

सांसद ने कहा कि जब स्टैंडिंग कमेटी की बैठकें हो रही हैं और यहां तक ​​कि जेईईृ-एनईईटी (JEE-NEET) की परीक्षा हो रही है, तो संसद शुरू होने के पहले सर्वदलीय बैठक बुलाकर सलाह क्यों नहीं ली गई?

बता दें कि 14 सितंबर से शुरू होने वाला मानसून सत्र बिना कोई अवकाश के 1 अक्टूबर तक चलेगा। सरकार की ओर से जारी किए गए अधिसूचना के मुताबिक प्रश्नकाल को रद्द कर दिया गया है। केंद्र सरकार के फैसले का देश के सभी विपक्षी दल विरोध कर रहे हैं।

Advertisement
Back to Top