मोदी की सरकार ने पेट्रोल और डिजल के दाम बढ़ाकर जन सामान्य की कमर तोड़कर रख दी हैं : कोमटिरेड्डी

mp komatireddy venkat reddy writes letter to president over petro price - Sakshi Samachar

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी एक तानाशाह की तरह शासन कर रहे हैं

पेट्रोल के दाम बढ़ाकर जन सामान्य की कमर तोड़कर रख दी है

हैदराबाद : भुवनगिरी सांसद कोमटिरेड्डी वेंकट रेड्डी ने कहा कि लॉकाडाउन के कारण देश की जनता भयंकर आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। ऐसे समय मोदी की सरकार पिछले 20 दिनों से पेट्रोल और डिजल के दाम बढ़ाकर जन सामान्य की कमर तोड़कर रख दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तानाशाह की तरह शासन कर रहे हैं। जन सामान्य की समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। कोमटरेड्डी ने सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखे एक पत्र में यह बात कही।

सांसद ने आगे कहा कि कोरोना महामारी से पूरा विश्व आर्थिक समस्याओं से जूझ रहा है। रोजगार नहीं मिलने से श्रमिक और गरीब जनता भूख से तड़प रहे हैं। ऐसे हालत में सरकार पेट्रोल और डिजल के दाम बढ़ाकर लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। महामहिम राष्ट्रपति से आग्रह है कि वे पेट्रोल के दाम कम करने के लिए आवश्यक कदम उठाये।

कोमटिरेड्डी ने यह भी कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में भारी कमी आई है। मगर यह विचित्र बात है कि हमारे देश में पेट्रोल और डिजल के दाम बढ़ते ही जा रहे हैं।

 यह भी पढ़ें :

तेलंगाना में हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया जाये : रेवंत रेड्डी

सांसद ने कहा कि कांग्रस के शासनकाल में साल 2014 में कच्चे तेल के दाम प्रति बैलर 108 डॉलर था। तब पेट्रोल 71.40 रुपये और डिजल 59.59 रुपये थे। जबकि साल 2020 में कच्चे तेल की कीमत 43.41 डॉलर हैं। अर्थात 60 फीसदी कम है। इस इसाब से देखा जाये तो पेट्रोल 20.68 रुपये मिलना चाहिए। मगर पेट्रोव 82.96 रुपये हैं।

प्रधानमंत्री मोदी जनता पर एक तानाशाही शासन कर रहे हैं। मनमनी ढंग से पेट्रोल और डिजल के दाम बढ़ाते जा रहे हैं। बीते छह सालों में मोदी की सरकार ने पेट्रोल के दाम बढ़ाकर 18 लाख करोड़ रुपये प्रजा धन को लूट लिया है। ऐसे हालत में राष्ट्रपति से आग्रह है कि वे दाम करने के लिए आवश्यक कदम उठाये।  

Advertisement
Back to Top