तेलंगाना स्थापना दिवस पर सरकार के विरोध में कांग्रेस देगी धरना

Congress protest on Telangana Foundation Day against govt attitude  - Sakshi Samachar

राज्य सरकार के रवैये का कांग्रेस करेगी विरोध

जून के पहले सप्ताह में होगा कांग्रेस का धरना प्रदर्शन 

हैदराबाद : राज्य सरकार की कृषि और कृष्णा तथा गोदावरी नदियों पर सिंचाई परियोजनाओं की नीति के विरोध में तेलंगाना कांग्रेस  तेलंगाना स्थापना दिवस पर धरना प्रदर्शन करेगी। परियोजनाओं के निकट कांग्रेस के नेता अनशन करेंगे। तेलंगाना स्थापना दिवस 2 जून को कृष्णा नदी पर परियोजनाओं के लंबित कार्य और 6 जून को निर्माणाधीन परियोजनाओं के निकट धरना प्रदर्शन करने के साथ अनशन किया जायेगा। 

तेलंगाना कांग्रेस के नेता 3 और 4 जून को राज्य सरकार की नई कृषि नीति का विरोध करेंगे। इस दौरान कांग्रेसी किसानों से रू-ब-रू होते हुये सरकार के गुमराह करने वाली कृषि नीति के बारे में बताएंगे। तेलंगाना कांग्रेस के अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी धान और मकई के बीज बेचने के संदर्भ में जिलाधीश द्वारा लगाई जा रही रोक को लेकर न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे। 

तेलंगाना में कांग्रेस के नेतृत्व में राज्य सरकार के विरोध  में किये जाने वाले धरना प्रदर्शन और अनशन को लेकर रविवार को नेताओं की गांधी भवन में बैठक संपन्न हुई। बैठक में सीएलपी नेता भट्टी विक्रमार्का, दामोदर राजनरसिम्हा, शब्बीर अली, पोन्नम प्रभाकर, जेट्टी कुसुम कुमार, वी हनुमंत राव, चेन्ना रेड्डी, वंशीचंद रेड्डी शामिल थे। बैठक के दौरान टीपीसीसी के नेतृत्व में सरकार की अलग-अलग मुद्दों पर अध्ययन कर असफलता का विरोध करने के उद्देश्य से चार समितियां बनाई जाएंगी। 

इसे भी पढ़ें :

पोतिरेड्डीपाडू परियोजना के विरोध में तेलंगाना कांग्रेस 2 जून को धरना प्रदर्शन करेगी

तुगलक की तर्ज पर कार्य कर रहे केसीआर : उत्तम कुमार रेड्डी

उत्तम कुमार रेड्डी ने कहा कि केसीआर तुगलक की तर्ज पर कार्य कर रहे हैं। नई कृषि नीति के नाम पर किसानों के गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। सरकार की नई कृषि नीति के विरोध में कांग्रेस के नेता किसानों से मिलेंगे और सरकार की गलत नीति के बारे में जानकारी देंगे।  उन्होंने कहा कि जिलाधीश कुछ जगहों पर धान और मकई के बीजों की बिक्री नहीं करने के निर्देश दिये हैं। जिलाधीश के इस निर्देश का उत्तम कुमार रेड्डी विरोध किया। उन्होंने कहा कि जिलाधीश के इस रवैये के विरोध में अदालत में याचिका दायर करेंगे। 

Advertisement
Back to Top