जब रोहित शर्मा ने युवराज से पूछा- पुरानी और नई टीम में क्या अंतर है, युवी ने दिया ये जवाब

Yuvraj Singh Reveals Many Things With Rohit Sharma On Instagram Chat - Sakshi Samachar

मौजूदा भारतीय टीममें ज्यादा ‘रोलमॉडल' नहीं

सोशल मीडिया ने बिगाड़ा माहौल

मार्गदर्शन के लिए सीनियर चाहिए

नई दिल्ली : भारत के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी युवराज सिंह ने कहा है कि मौजूदा टीम में तीनों प्रारूपों में खेलने वाले विराट कोहली और रोहित शर्मा को छोड़कर कोई ज्यादा रोल मॉडल नहीं है। उन्होंने साथ ही कहा कि टीम में सीनियरों के सम्मान की आदत भी धूमिल पड़ती जा रही है। युवराज ने यह बातें रोहित से इंस्टाग्राम पर बातचीत में कहीं।

क्या है पुरानी और नई टीम में फर्क

रोहित ने जब युवराज से पूछा कि टी-20 विश्व कप 2007 और वनडे विश्व कप 2011 जीतने वाली टीम और मौजूदा टीम में क्या अंतर है तो युवराज ने कहा, "जो अंतर मुझे हमारी टीम में और अभी की टीम में नजर आता है तो वो यह है कि हमारे समय में सीनियर खिलाड़ी बड़े अनुशासन में रहते थे। सोशल मीडिया था नहीं तो भटकाव नहीं होता था।"

उन्होंने कहा, "हमें एक निश्चित तरीके से अपने आप को संभालना होता था। हम अपने सीनियर खिलाड़ियों की तरफ देखते थे कि वो मीडिया में किस तरह से बातें कर रहे हैं और बाकी सब। वह आगे से नेतृत्व करते थे। यही हमने उनसे सीखा और आप लोगों को भी बताया।"

सोशल मीडिया ने बिगाड़ा माहौल

बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा, "इस टीम में सीनियर जैसे की आप (रोहित) और विराट, जो तीनों प्रारूप खेलते हैं। मुझे लगता है कि जबसे सोशल मीडिया आया है तब से बहुत कम ऐसे खिलाड़ी हैं जिनकी तरफ देखा जा सकता है। सीनियरों के प्रति सम्मान काफी कम हो गया है।"

हार्दिक और राहुल का कॉफी विद करण मामला

युवराज ने हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल के कॉफी विद करण शो पर हुए विवाद का हवाला देते हुए लिखा, "राहुल और हार्दिक का मामला ले लीजिए। हम सोच नहीं सकते थे कि ऐसा होगा। यह उनकी भी गलती नहीं है। आईपीएल के अनुबंध भी काफी लंबे होते हैं। खिलाड़ी भारत के लिए नहीं खेलते तब भी काफी पैसा आता है।"

इसे भी पढ़ें : 

युवराज सिंह का फिर छलका दर्द, बोले- धोनी और विराट नहीं बल्कि सौरभ गांगुली ने दिया मेरा साथ​

रोहित शर्मा को मिल गई नई फिटनेस ट्रेनर, इस तरह सीढ़ियों पर लगवा रही दौड़, देखें वीडियो

मार्गदर्शन के लिए सीनियर चाहिए

युवराज ने कहा, "आपको मार्गदर्शन के लिए सीनियर चाहिए होते हैं। सचिन ने हमेशा मुझसे कहा कि अगर आप मैदान पर अच्छा करोगे तो सब कुछ सही होगा। मैं एनसीए में था और देखा खिलाड़ी टेस्ट मैच नहीं खेलना चाहते। दूसरी पीढ़ी टेस्ट मैच खेलना नहीं चाहती यही क्रिकेटरों का असली टेस्ट है।"

रोहित ने इस पर युवराज का साथ दिया और कहा, "जब मैं आया था तो काफी सारे सीनियर थे लेकिन अब माहौल थोड़ा हल्का है।"
 

Advertisement
Back to Top