युवराज सिंह का फिर छलका दर्द, बोले- धोनी और विराट नहीं बल्कि सौरभ गांगुली ने दिया मेरा साथ

Yuvraj Singh Reaction On MS Dhoni And Virat Kohli Over Support - Sakshi Samachar

2011 वर्ल्ड कप में रहे थे 'प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट'

सौरव गांगुली की कप्तानी के दिनों को किया याद

नई दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह ने खुलासा किया कि उनके लिए सबसे अच्छा कप्तान कौन साबित हुआ। उन्होंने सौरव गांगुली की कप्तानी के दिनों को याद करते हुए कहा कि जो सपोर्ट उन्हें सौरव गांगुली से मिला वो सपोर्ट उन्होंने विराट कोहली और एमएस धोनी की कप्तानी में नहीं मिला। हालांकि युवराज, महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 2011 वर्ल्ड कप के दौरन 'प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट' रहे थे। 

एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा, 'मैंने सौरव (गांगुली) की कप्तानी में खेला है और उन्होंने मेरा बहुत सपोर्ट किया। मेरे पास सौरव की कप्तानी की अधिक यादें हैं, क्योंकि उन्होंने मेरा समर्थन किया। मुझे माही (एमएस धोनी) और विराट से इस तरह का सपोर्ट नहीं मिला। 

उन्होंने श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन को सबसे कठिन गेंदबाज के तौर पर चुना। युवराज ने कहा, 'मुझे मुरलीधरन के खिलाफ काफी जूझना पड़ा था। उनकी गेंदबाजी को समझ नहीं पाता था। तब सचिन (तेंदुलकर) ने मुझे उनके खिलाफ स्वीप शुरू करने के लिए कहा था। इसके बाद मेरे लिए मुरली के खिलाफ खेलना आसान हो गया।' आपको बता दें कि युवराज ने अपने वनडे इंटरनेशनल करियर में कुल 14 शतक जमाए हैं। साथ ही उन्होंने 304 वनडे में 8701 रन बनाए।

साल 2000 में डेब्यू करने वाले इस क्रिकेटर को आज भी सबसे बड़ा ऑल राउंडर कहा जाता है। उन्होंने 40 टेस्ट, 304 वनडे, 58 टी20 खेला है जहां उनके 14,064 रन है और 148 विकेट। 38 साल का ये खिलाड़ी साल 2007 टी20 वर्ल्ड कप और साल 2011 वर्ल्ड कप का हीरो रह चुका है। 2011 के मेगा इवेंट में युवराज सिंह को मैन ऑफ दी टूर्नामेंट का अवॉर्ड मिला था। 

Advertisement
Back to Top