इन क्रिकेटरों ने बोर्ड से की थी लड़ाई, तो खत्म हो गया करियर, सूची में दो भारतीय भी शामिल

These Five Legendary Cricketer Career Ended After Fight With Board  - Sakshi Samachar

क्रिकेट बोर्ड और खिलाड़ियों के बीच संबंध

अंबाती रायडू का क्रिकेट करियर

 

किसी भी खेल को चलाने के लिए बोर्ड की स्थापना की गई है। बोर्ड और खिलाड़ियों के बीच का रिश्ता काफी नाजुक होता है। इसलिए खिलाड़ियों को हमेशा संभल के रहना पड़ता है, क्योंकि इसमें बोर्ड का नहीं खिलाड़ियों का ही नुकसान ज्यादा होता है । यदि क्रिकेट बोर्ड और किसी भी खिलाड़ी के बीच रिश्ता अच्छा न हो तो उस खिलाड़ी के करियर खत्म करने पर बोर्ड विचार कर ले तो फिर उस क्रिकेटर का करियर लगभग खत्म हो ही जाता है। 

आज हम कुछ ऐसे खिलाड़ियों के बारें में बात करेंगे, जिनका रिश्ता क्रिकेट बोर्ड से अच्छा नहीं होने के कारण उस खिलाड़ी का करियर चौपट हो गया । और उस खिलाड़ी को संन्यास लेने पर मजबूर होना पड़ा। इस लिस्ट में शामिल पांच खिलाड़ी है जो बहुत अधिक प्रतिभाशाली रहे हैं। हालाँकि बोर्ड ने उन्हें अपने देश के लिए उस प्रतिभा को दिखाने का पूरा अवसर नहीं दिया। जिसका वो हकदार थे।

5.अंबाती रायडू 

इस लिस्ट पांचवां नाम भारतीय टीम के खिलाड़ी अंबाती रायडू का है। उनका करियर भी बोर्ड के साथ लड़ाई के कारण ही खत्म माना जाता है। रायडू ने कई बार बोर्ड से पंगा लिया है। करियर के शुरू में ही उन्होंने आईसीएल में खेल कर बीसीसीआई से पंगा ले किया था। जिसके कारण उन्हें इंटरनेशनल क्रिकेट में पर्दापण करने का मौका बहुत समय बाद मिला। हालाँकि पहले आईपीएल में और उसके बाद भारतीय टीम में उनकी वापसी हो गई थी, लेकिन वो कभी भी टीम के नियमित सदस्य नहीं बन पाये । 

 विश्व कप 2019 के दौड़ में वो नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए बहुत आगे चल रहे थे, लेकिन उनका चयन अंत समय तक नहीं हुआ। हालाँकि वे चयन के हक़दार थे। रायडू को वर्ल्ड कप के लिए स्टैंडबाय खिलाड़ियों में रखा गया थे लेकिन विजय शंकर के चोटिल होने के बाद बोर्ड ने रायडू को नजरंदाज़ करके ऋषभ पंत को चुना था। इसके बाद रायडू सोशल मीडिया पर टीम मैनेजमेंट पर सवाल उठाये थे, जिसके कारण उन्होंने संन्यास लेने का फैसला भी कर लिया था। हालाँकि उन्होंने अब वापसी कर ली है। 

4. शोएब अख्तर

इस लिस्ट में चौथे स्थान पर पाकिस्तान टीम के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का नाम है। अख्तर की जब भी बात होती है तो उसमें गति और विवाद दोनों का नाम जरुर आता है। कहा जाता है कि अपने गति से जिस तरह से उन्होंने बल्लेबाजो को परेशान किया था। उसी तरह खुद वो क्रिकेट बोर्ड से विवाद के कारण ज्यादा परेशान नजर आए। जिसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ा और वक्त से पहले क्रिकेट से संन्यास लेना पड़ा। 

दरअसल,  शोएब अख्तर अपने पूरे करियर में पीसीबी से लड़ते हुए ही नजर आए। इसी वजह से वो जितना मैच खेल सकते थे, उतने मैच अपने करियर में नहीं खेल पाए। बोर्ड से विवाद के कारण ही उन्हें करियर के अंत में प्लेइंग इलेवन से लगातार बाहर रखा जाता रहा था।  जिसमें से 2011 विश्व कप का सेमीफ़ाइनल मैच भी था। इतना ही नहीं अख्तर को पूरे करियर में कई कारणों से बार-बार बैन का सामना भी करना पड़ा था। जिसके कारण उन्होंने संन्यास ले लिया। 

3.ड्वेन ब्रावो

इस लिस्ट में वेस्टइंडीज के आलराउंडर खिलाड़ी ड्वेन ब्रावो का नाम तीसरे स्थान पर है।  ड्वेन ब्रावो का करियर भी उसी अंदाज में खत्म होने के तरफ गया था। हालाँकि पिछले कुछ समय पहले उनकी टीम में वापसी हुई है। उम्मीद है की वो टी20 विश्व कप 2020 में वेस्टइंडीज टीम में शामिल हो सकते हैं, लेकिन उनकी प्रतिभा का इस्तेमाल पूरी तरह से नहीं हो पाया। 

दरअसल, ड्वेन ब्रावो ने सीधे ही बोर्ड से पंगा लिया था। साल 2014 में जब वेस्टइंडीज की टीम भारत दौरे पर थी। उस समय मैच फीस न मिलने के कारण ड्वेन ब्रावो ने सीरीज खेलने से मना कर दिया था। जिसके बाद से बोर्ड और ब्रावो के बीच लड़ाई का आगाज हुआ। इस प्रकरण के बाद ब्रावो लगातार टीम से बाहर रहे। कई बार उन्हें टीम में शामिल भी किया गया। अच्छे प्रदर्शन के बावजूद उन्हें टीम से बाहर कर दिया जाता है। जिसके कारण इस खिलाड़ी ने एक बार संन्यास भी ले लिया था। फिलहाल उन्होंने टीम में वापसी कर लिया है।  

2.केविन पीटरसन

इस लिस्ट में दूसरे स्थान पर इंग्लैंड के आक्रामक बल्लेबाज केविन पीटरसन का नाम आता है।  केविन पीटरसन का करियर भी क्रिकेट बोर्ड के साथ लड़ाई के कारण ही खत्म हुआ था। करियर के अंत में उनके बोर्ड के साथ विवाद बहुत ज्यादा बढ़ गये थे। जिसका नतीजा पीटरसन के करियर का अंत के साथ हुआ।

दरअसल, बोर्ड के साथ विवाद एशेज सीरीज के दौरान हुआ था। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इंग्लैंड की टीम को एशेज सीरीज में बहुत ही बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा। जिसके बाद बोर्ड ने उन्हें टीम से बाहर कर दिया। उस समय उसकी वजह बताई गई की टीम अब युवा खिलाड़ियों को खेलने का मौका देना चाहती है। जिसके कारण अब अनुभवी खिलाड़ियों को बाहर कर रही है। लेकिन बाद में पता चला की पीटरसन का कप्तान एंड्रयू स्ट्रास और कोच एंडी फ्लावर के साथ झगड़े हो रहे थे। जिसके कारण उन्हें टीम से बाहर करने का फैसला लिया गया था। 

1.गौतम गंभीर

इस लिस्ट में पहला नाम टीम इंडिया के खिलाड़ी गौतम गंभीर का नाम आता है। उनका करियर भी कुछ इसी अंदाज में खत्म हुआ। प्रेस कांफ्रेस में और इंटरव्यू में गौतम गंभीर ने बोर्ड को लेकर कई बयान दिए थे। उसके बाद से ही बीसीसीआई और गंभीर के बीच विवाद बढ़ते ही नजर आ रहे थे। जिसका अंत गंभीर के संन्यास के साथ ही हुआ। 

मिली जानकारी के मुताबिक, 2012 में कप्तान धोनी और गौतम गंभीर के बीच विवाद की शुरुआत हुई थी। जिसके बाद से वो प्रेस कांफ्रेस में कुछ ऐसे बयान दिए, जिसके बाद बोर्ड धोनी के साथ खड़ा हो गया और गौतम गंभीर को टीम से बाहर कर दिया गया। विवाद के बाद उनकी टीम में वापसी एक बार हुई। लेकिन कुछ समय के बाद उन्हें दोबारा टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। जिसके कारण मैदान के बाहर से ही गौतम गंभीर को अपने करियर का अंत करना पड़ा। फिलहाल वो भाजपा से सांसद है। 

Advertisement
Back to Top