हरभजन सिंह के नाम दर्ज हैं खास रिकॉर्ड्स, जिन्हें कोई नहीं तोड़ सका

Special Story On Harbhajan Singh Birthday - Sakshi Samachar

टेस्‍ट और वनडे में हरभजन का कोहराम

आईपीएल में जमकर किया भांगड़ा

बॉर्डर-गावस्‍कर टेस्‍ट सीरीज से मिली पहचान

टीम इंडिया के अनुभवी ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह आज अपना 40वां जन्‍मदिन मना रहे हैं। भज्‍जी के नाम से मशहूर हरभजन सिंह ने अब तक इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्‍यास नहीं लिया है। भज्जी का जन्म 3 जुलाई 1980 को पंजाब के जलंधर में हुआ था। वह लंबे समय से राष्‍ट्रीय टीम से बाहर हैं। फिर भी वह आईपीएल सहित घरेलू क्रिकेट में अब भी सक्रिय हैं। उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनसे जुड़ी बातें.....

टेस्‍ट और वनडे में कोहराम

हरभजन सिंह का नाम भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल स्पिनरों में शुमार किया जाता है। हरभजन सिंह ने 1998 में भारतीय टीम के लिए टेस्‍ट और वनडे डेब्‍यू किया। उन्होंने बहुत ही जल्‍द अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर अपनी पहचान बनाई। करियर में उतार-चढ़ाव के बावजूद भज्‍जी ने 103 टेस्‍ट में 417 विकेट चटकाए। वह भारत की तरफ से सबसे ज्‍यादा विकेट लेने के मामले में तीसरे नंबर पर हैं। इस मामले में फिलहाल कोई भी भारतीय ऑफ स्पिनर उनके आस-पास भी नहीं है। भज्‍जी ने वनडे में 269 विकेट चटकाए। उन्होंने अपना अंतिम टेस्ट 2015 में श्रीलंका में और इसी साल अंतिम वनडे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला।

आईपीएल में जमकर किया भांगड़ा

हरभजन सिंह का आईपीएल करियर भी जश्‍न से भरा रहा है। वह 2013, 2015 और 2017 में आईपीएल खिताब हासिल करने वाली मुंबई इंडियंस के सदस्‍य रहे। अनुभवी ऑफ स्पिनर ने फिर 2018 में चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स का हिस्‍सा रहते हुए चौथी बार आईपीएल खिताब हासिल किया। भज्‍जी ने आईपीएल में 150 विकेट चटकाए और वह सबसे ज्‍यादा विकेट लेने के मामले में संयुक्‍त रूप से तीसरे स्‍थान पर हैं।

वर्ल्‍ड टी20 और वर्ल्‍ड कप विजेता टीम के सदस्‍य

हरभजन सिंह ने 28 टी20 इंटरनेशनल मैचों में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्‍व करते हुए 25 विकेट चटकाए। वह 2007 वर्ल्‍ड टी20 का खिताब जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्‍य थे। हरभजन ने टूर्नामेंट में 7 विकेट लेते हुए भारत की खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाई थी। इसके बाद वह 2011 में आईसीसी विश्‍व कप जीतने वाली टीम के सदस्‍य भी रहे। भज्‍जी ने इस टूर्नामेंट में 4.48 की इकोनॉमी से 9 विकेट झटके थे। भारत के लिए अंतिम टी-20 उन्होंने, 2016 के एशिया कप में यूएई के खिलाफ खेला। 

बॉर्डर-गावस्‍कर टेस्‍ट सीरीज से मिली पहचान

हरभजन सिंह ने अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में अपनी पहचान 2001 बॉर्डर-गावस्‍कर टेस्‍ट सीरीज से बनाई थी। उस सीरीज में भज्‍जी ने ऑस्‍ट्रेलियाई बल्‍लेबाजों को खूब परेशान किया और तीन मैचों की सीरीज में 32 विकेट चटकाए। इस सीरीज में वह टेस्‍ट क्रिकेट में हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय गेंदबाज भी बने थे। इस सीरीज में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए हरभजन सिंह को मैन ऑफ द सीरीज चुना गया था। इसके बाद अनिल कुंबले के साथ हरभजन सिंह ने शानदार स्पिन जोड़ी बनाई, जिसने भारत को कई मैच जिताए।

भज्जी का विवादों से रहा गहरा नाता

हरभजन सिंह पर तीन टेस्‍ट और 50 प्रतिशत मैच फीस का जुर्माना लगा क्‍योंकि भारत के ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर उन्‍होंने एंड्रयू साइमंड्स को खरीखरी सुनाई थी। हालांकि, सचिन तेंदुलकर के हस्‍पक्षेप के बाद जज ने बैन पर अपना फैसला बदल दिया था। इसके अलावा आईपीएल में श्रीसंत को थप्‍पड़ जमाना हो या फिर अंबाती रायुडू से बीच मैदान पर भिड़ना। हरभजन सिंह का विवादों से गहरा नाता रहा। श्रीसंत को थप्‍पड़ जमाने के बाद भज्‍जी शेष सीजन से निलंबित हुए और उन पर पांच वनडे का भी बैन लगा।

कुछ अन्य बातें......

- टेस्ट क्रिकेट में हैट्रिक लेने वाले भज्जी पहले भारतीय गेंदबाज हैं। मार्च 2001 में भज्जी ने ईडन गार्डन्स मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हैट्रिक ली थी, जो भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट में पहली हैट्रिक थी। भज्जी के बाद 2006 में इरफान पठान ने पाकिस्तान के खिलाफ कराची टेस्ट में हैट्रिक ली थी।

-  भज्जी भारत की ओर से पहले ऐसे क्रिकेटर हैं, जिसने नंबर आठ पर बल्लेबाजी करते हुए बैक टू बैक टेस्ट सेंचुरी जड़ी हो। 2010 में भज्जी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ अहमदाबाद और हैदराबाद टेस्ट में क्रम से 115 और नॉटआउट 111 रनों की पारी खेली थी।

-तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड भी भज्जी के नाम ही है। उन्होंने 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में 32 विकेट झटके थे। ये रिकॉर्ड आजतक कोई नहीं तोड़ पाया है।

Advertisement
Back to Top