जब 9 साल बड़ी लड़की को दिल दे बैठा था ये क्रिकेटर, जानिए किसने कराई थी मुलाकात

Know Unknown Facts About Venkatesh Prasad On His Birthday  - Sakshi Samachar

बड़े पर्दे पर भ आए नजर

अर्जुना अवार्ड से नवाजा गया 

प्रसाद के बॉलिंग का बेहतरीन नमूना

टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद का आज अपना 51वां जन्मदिन मना रहे हैं। उनका जन्म 5 अगस्त 1969 को कर्नाटक के बेंगलुरु में हुआ था। 90 के दशक में वेंकटेश और जवागल श्रीननाथ की जोड़ी काफी मशहूर थी। वह सिर्फ 6 साल तक ही एक साथ क्रिकेट खेल पाए। मगर इतने कम समय में उन्होंने वो कारनामे कर दिखाए जिसके लिए दुनिया आज भी उनका नाम लेती है। बेंकटेश  प्रसाद का आज जन्मदिन है। इस मौके पर जानते हैं उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें। 

इंटरनेशनल क्रिकेट में करियर की शुरुआत 

वेंकटेश प्रसाद को न्यूजीलैंड के खिलाफ 1994 में वनडे में खेलने का मौका दिया गया। लेकिन प्रसाद शुरुआती मैचों में कुछ कमाल नहीं कर सके। करीब तीन मैचों में वह बिना विकेट लिए पवेलियन वापस लौटे। प्रसाद ने पहला इंटरनेशनल विकेट श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो में लिया। हालांकि वनडे में उन्होंने अपनी पहचान वेस्टइंडीज के खिलाफ बनाई जब 10 ओवर में 36 रन देकर 3 विकेट हासिल किए। 1993-94 में प्रसाद ने 13 फर्स्ट क्लास मैच खेले जिसमें 50 विकेट अपने नाम किए।

वेंकटेश प्रसाद का सबसे यादगार पल

वेंकटेश प्रसाद को 1996 विश्व कप में भारतीय टीम में जगह दी गई। इस विश्वकप में वेंकटेश ने न सिर्फ हिस्सा लिया बल्कि उसे यादगार भी बना दिया। 1996 विश्वकप के क्वार्टर फाइनल में भारत का सामना पाकिस्तान से हुआ। ये मैच भारतीय गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद और पाकिस्तान बल्लेबाज आमिर सोहेल के बीच तकरार के लिए याद किया जाता है।

भारत ने इस मैच में पाक के सामने 287 रनों का विशाल लक्ष्य खड़ा किया। खेल के दौरान मैच का 15वां ओवर वेंकटेश प्रसाद फेंक रहे थे। जिसमें ओवर की चौथी गेंद पर सोहेल ने चौका जड़ दिया। चौका लगाने के बाद सोहेल खुश हुए और प्रसाद की ओर इशारा किया कि तुम्हारी जगह बाउंड्री के बाहर ही है। इसके बाद अगली गेंद पर प्रसाद ने सोहेल का स्टंप उखाड़कर उन्हें करारा जवाब दिया। इस रोमांचक मैच में प्रसाद ने तीन विकेट लिए थे और भारत मैच जीत गया था।

वेंकटेश प्रसाद के बॉलिंग का बेहतरीन नमूना

1996 में साउथ अफ्रका के खिलाफ खेले गए डरबन टेस्ट में प्रसाद ने शानदार बॉलिंग की थी। इस मैच में वेंकेटेश ने 60 रन पर साउथ अफ्रिका के 5 विकेट चटकाए थे और 235 रन पर पूरी टीम को समेट दिया था। वहीं, मैन्चेस्टर में भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए 1999 वर्ल्ड कप में प्रसाद की खतरनाक गेंदबाजी ने सबको स्तब्ध कर के रख दिया था। 27 रन पर उन्होंने पाकिस्तान के 5 विकेट छटक लिए थे।

बॉलिंग में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले प्रसाद का बैटिंग करियर काफी खराब है। क्रिकेट के किसी भी फॉर्म में उनका सर्वोच्च स्कोर 37 रन है। यानी की प्रसाद ने कभी भी क्रिकेट में 50 रन नहीं बनाए। 

वेंकटेश प्रसाद की पर्सनल लाइफ

वेंकटेश प्रसाद के क्रिकेट करियर के साथ-साथ उनकी पर्सनल लाइफ भी काफी रोचक रही हैं। शर्मीले नेचर के वेंकटेश ने लव मैरिज की थी, लेकिन उन्हें प्रपोज उनकी वाइफ जयंती ने किया था। वेंकटेश प्रसाद की पत्नी उनसे उम्र में करीब 9 साल बड़ी हैं। वेंकटेश का जन्म 1969 में जबकि जयंती का जन्म 1960 में हुआ था। जयंती के उम्र में बड़ी होने की वजह से शुरुआत में वेंकटेश के परिवार वाले शादी के लिए राजी नहीं थे, लेकिन बाद में उन्होंने अपने परिवार वालों को मना लिया। 22 अप्रैल, 1996 को दोनों ने शादी कर ली। 

अनिल कुंबले ने करवाई थी मुलाकात

मिली जानकारी के मुताबिक, वेंकटेश प्रसाद और जयंती की मुलाकात पूर्व क्रिकेटर अनिल कुंबले के जरिए हुई थी। कुंबले टाइटन कंपनी में नौकरी करते थे। वहीं, जयंती टाइटन कंपनी में पीआरओ थीं। ये बात 1994 की है। तब कुंबले और वेंकटेश, दोनों ही क्रिकेट के बड़े स्टार नहीं थे।

 इस मुलाकात के बाद जयंती ने ही वेंकटेश को पहले प्रपोज किया था, लेकिन वो इनकार करते रहे। शर्मीले होने की वजह से वेंकटेश कोई जवाब नहीं देते थे। जबकि, जयंती उन्हें लगातार फोन-मैसेज करती रहीं। धीरे-धीरे दोनों के बीच प्यार बढ़ा और वेंकटेश ने जयंती से शादी का फैसला कर लिया।  

अर्जुना अवार्ड से नवाजा गया

2001 में प्रसाद को अर्जुना अवार्ड से सम्मानित किया गया था। कमाल की बात हे कि से अवार्ड उनको उस वक्त मिला जब वो टीम में अपनी जगह दोबारा बनाने की कोशिश कर रहे थे।

बड़े पर्दे पर भ आए नजर

शानदार बॉलर प्रसाद ने 2014 में बड़े पर्दे पर अपना डेब्यू किया था। उन्होंने कन्नड़ फिल्म सचिन तेंदुलकर आला में जवागल श्रीनाथ के संग अपने अभिनय का हुनर भी दिखाया था।

Advertisement
Back to Top