रविचंद्रन अश्विन के स्पिन से डरते थे विरोधी, मिली थी उंगलियां काट देने की धमकी

Know the Interesting life Facts of Indian Cricketer Ravichandran Ashwin  - Sakshi Samachar

तुम मैच तो हम तुम्हारी उंगलियां काट देंगे

बल्लेबाजी में भी कारनामा

हैदराबाद : भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज स्पिनर रविचंद्रन अश्विन बचपन से ही अपनी फिरकी गेंदबाजी को लेकर काफी मशहूर थे। अश्विन पहले एक बल्लेबाज बनना चाहते थे, लेकिन युवावस्था में गंभीर चोट के कारण ही अश्विन ने बल्लेबाजी की ओर ध्यान देना कम कर दिया। 14 वर्ष की उम्र में उनके पेल्विक एरिया में चोट लगी थी। इसी वजह से वह दो महीने तक बिस्तर पर रहे। इसी के चलते उन्होंने बल्लेबाजी की जगह गेंदबाजी पर ध्यान देना शुरू किया। अश्विन का जन्म 17 सितंबर 1986 को चेन्नई में हुआ था।

एक इंटरव्यू में इस दिग्गज गेंदबाज ने अपने बचपन की यादों को ताजा करते हुए बताया था कि जब वह युवावस्था के दिनों में टेनिस बॉल टूर्नामेंट खेल रहे थे। उन्होंने बताया कि उन्हें विपक्षी टीम के सभी खिलाड़ियों ने घेर लिया। विरोधी टीम के खिलाड़ियों ने उन्हें दोबारा इस टूर्नामेंट में खेलने पर उनकी उंगलियां काट देने की धमकी दी थी। 

अश्विन ने बताया, '' उनकी टीम फाइनल में पहुंची थी और उस दिन शाम को मैच खेलने के लिए जब वह घर से बाहर निकले तो कुछ लड़के एक रॉयल एन्फील्ड पर आए।
देखने में सभी सभी लंबे चौड़े थे और उन्होंने मुझे उठाया और कहा हमारे साथ चलो।''

अश्विन ने जब उनसे पूछा कि आप कौन हैं तो उन्होंने कहा, ''तुम यहां मैच खेल रहे हो, हम तुम्हें उठाने आए हैं। मुझे लगा वे मुझे पिक करने आए हैं। वह भी रॉयल एन्फील्ड पर। मैं उनके पीछे बैठ गया। मेरे पीछे भी एक लड़का बैठा था। मैं उन दोनों के बीच सैंडविच बन रहा था।''

तुम मैच तो हम तुम्हारी उंगलियां काट देंगे

अश्विन ने बताया, ''उस समय मेरी उम्र 14-15 रही होगी। वे मुझे एक पॉश टी-स्टॉल पर ले गए। चेन्नई में टी कल्चर बहुत लोकप्रिय है। हर मैदान के बाहर एक टी शॉप मिलेगी। इसके आसपास बेंच लगे होते हैं। उन्होंने मुझे वहां बिठा दिया। उन्होंने कई दूसरे लड़कों को बुलाया और मुझसे कहा कि मैं डरूं नहीं।''

अश्विन ने आगे कहा, ''यह साढ़े तीन-चार बजे का समय था मैंने उनसे कहा कि मैच शुरू होने वाला है मुझे जाने दो।'' उन्होंने कहा, ''दरअसल हम विपक्षी टीम की तरफ से ही आए हैं और तुम्हें खेलने से रोकना चाहते हैं। यदि तुम गए और खेले तो हम तुम्हारी उंगलियां काट देंगे।''

बचपन की दोस्त से रचाई शादी 
अगर निजी जिंदगी की बात करें तो अश्विन ने अपनी बचपन की दोस्त प्रीति नारायणन से 2011 में शादी की। अश्विन को 2014 में अर्जुन अवॉर्ड दिया गया। इसके साथ ही 2012-13 में उन्हें बीसीसीआई ने साल के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर के खिताब से भी नवाजा। अश्विन के पिता भी क्लब क्रिकेटर थे, जिस क्लब में वो क्रिकेट खेलते थे उसी क्लब से अश्विन ने भी अपने करियर की शुरुआत की थी।

बल्लेबाजी में भी कारनामा
अपनी गेंदबाजी का जलवा पूरी दुनिया में बिखेरने वाले अश्विन टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 300 विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं, इसके अलावा उन्होंने भारत की ओर से चार टेस्ट सेंचुरी भी जड़ी हैं। वहीं अश्विन 529 इंटरनेशनल विकेट ले चुके हैं, जिसमें 327 टेस्ट, 150 वनडे और 52 टी20 इंटरनेशनल विकेट शामिल हैं। अश्विन का टेस्ट क्रिकेट में बेस्ट स्कोर 124 रनों का है, जबकि वनडे में वो एक हाफसेंचुरी जड़ चुके हैं।
 

Related Tweets
Advertisement
Back to Top