शेन वॉटसन : दुनिया का एकमात्र खिलाड़ी जिसने IPL की दो टीमों को बनाया चैंपियन

Know About Shane Watson IPL Career - Sakshi Samachar

मोस्ट वैल्युएबल प्लेयर का अवार्ड

वॉटसन का आईपीएल करियर 

चेन्नई सुपर किंग्स की टीम के साथ जुड़े वॉटसन 

हैदराबाद :  क्रिकेट के छोटे फॉरमेट टी-20 क्रिकेट में किसी ऑलराउंडर का टीम में होना हमेशा से टीम को दुगना फायदा देता है। ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज खिलाड़ी शेन वॉटसन भी उन्हीं खतरनाक ऑलराउंडरर्स में शुमार है जिन्होंने विश्व की कई टी-20 लीग में अपने गेंदबाजी और बल्लेबाजी के कमाल से टीम को मैच जीताए है। अब फैंस के लिए बुरी खबर है कि वॉटसन अब आईपीएल में खेलते नहीं नजर आएंगे। उन्होंने आईपीएल से संन्यास की घोषणा कर दी है। 

आईपीएल के इतिहास में भी शेन वॉटसन ने कई मैच जिताऊ प्रदर्शन किए है। साल 2008 में शेन वॉटसन ने अपने आईपीएल के सफर की शुरुआत राजस्थान रॉयल्स के साथ की। राजस्थान की टीम उस साल शेन वार्न के कप्तानी में आईपीएल चैंपियन भी बनी और तब शेन वॉटसन ने टीम के लिए गेंद और बल्ले दोनों से बेजोड़ प्रदर्शन किया था।

मोस्ट वैल्युएबल प्लेयर का अवार्ड

साल 2008 में वॉटसन ने 15 मैचों में 472 रन बनाने के साथ-साथ 17 विकेट भी चटकाए थे जिसके लिए उन्हें "मोस्ट वैल्युएबल प्लेयर का अवार्ड भी मिला। उस साल राजस्थान पहली बार चैंपियन बनी। राजस्थान के लिए वॉटसन ने साल 2015 तक मैच खेला। इसके बाद साल  2016 में वॉटसन रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम के साथ जुड़ गए, लेकिन वो आरसीबी की टीम के लिए कुछ खास नहीं पाए। 

चेन्नई सुपर किंग्स की टीम के साथ जुड़े वॉटसन 

साल 2018 में वो महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपर किंग्स की टीम के साथ जुड़े। चेन्नई के साथ जुड़ने के बाद वॉटसन की बल्लेबाजी में और निखार आया और उन्होंने 2018 के आईपीएल में 555 रन बनाएं जिसमें दो शतक शामिल है। इस साल चन्नई तीसरी बार चैंपियन बना। वह 2018 के सीजन के फाइनल मैच में  मैन ऑफ द मैच का खिताब हासिल किया था।  2019 में उनके बल्ले से 398 रन निकलें। साल 2008 के अलावा उनको 2015 में भी "मोस्ट वैल्युएबल प्लेयर का अवार्ड" भी मिला है।

इसे भी पढ़ें : 

IPL 2020: चेन्नई सुपर किंग्स के शर्मनाक प्रदर्शन की 3 बड़ी वजह

चेन्नई सुपरकिंग्स के बाहर होते ही शेन वॉटसन ने लिया संन्यास, ड्रेसिंग रूम में हुए इमोशनल​

वॉटसन का आईपीएल करियर 

साल 2020 उनके लिए और चेन्नई सुपर किंग्स के लिए भी खास नहीं रहा। चेन्नई आईपीएल इतिहास में पहली बार प्ले ऑफ में अपनी जगह पक्की नहीं कर सकी। वहीं वॉटसन का बल्लेबाजी भी औसत रहा। इस सीजन में उन्होंने 11 पारियों में केवल 299 रन बनाए। इसमें किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ नाबाद 83 रन बनाए, जिसमें चेन्नई की जीत हुई। उन्होंने 145 मैचों में 3874 रन बनाए हैं और 92 विकेट लिए हैं।

Advertisement
Back to Top