22 साल की उम्र में बिना कोचिंग IAS बने बिहार के मुकुंद झा, UPSC तैयारी को लेकर दी टिप्स

Mukund kumar Jha from Bihar crack UPSC at the age 22 years in first attempt - Sakshi Samachar

22 साल की उम्र में क्रैक किया आईएएस

मधुबनी के मुकुंद झा बने रोल मॉडल 

पटना: बिहार के मधुबनी जिले के छोटे से गांव से आने वाले मुकुंद झा रोल मॉडल बने हैं। महज 22 साल की उम्र में झा ने यूपीएससी क्रैक किया वो भी बिना किसी कोचिंग में पढ़े हुए। किसान परिवार से आने वाले मुकुंद कुमार झा ने सीमित संसाधनों के बूते बड़ी उपलब्धि हासिल की है। जाहिर है आईएएस बनने का ख्वाब देखने वाले बाकी छात्र मुकुंद के बारे में जानना चाहते हैं कि उन्होंने ये करिश्मा कैसे कर दिखाया? 

मुकुंद ने इस बारे में खुलकर अपनी स्ट्रैटजी साझा की। साक्षात्कार में उन्होंने बताया कि जब वे प्राथमिक स्कूल में पढ़ रहे थे तभी उन्हें आईएएस के बारे में जानकारी मिली। इस बारे में पिता से उन्होंने काफी कुछ जानने समझने की कोशिश की। बढती उम्र के साथ मुकुंद के मन में प्रशासनिक सेवा में जाने की इच्छा और बलवती होती चली गई। यूं कहें कि मुकुंद झा ने एक सपना देखा और कड़ी मेहनत से उसे सच भी किया। 

बिना कोचिंग क्रैक किया IAS 

मुकुंद झा के पिता किसान हैं और मां प्राथमिक स्कूल में शिक्षिका रह चुकी हैं। माता पिता बच्चों की पढ़ाई को लेकर शुरू से ही जागरूक रहे, तभी तो मां ने अपनी जमी जमाई नौकरी छोड़कर घर में ही बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान देना शुरू कर दिया। आईएएस की तैयारी के वक्त ऐसा समय भी आया जब मुकुंद को लगा कि कोचिंग ज्वाइन कर लें तो तैयारी अच्छी हो पाएगी। आर्थिक तंगी और पिता की माली हालत को समझते हुए उन्होंने कोचिंग करने का इरादा छोड़ दिया। उन्हें पता था कि मुंह खोलने पर पिता कहीं न कहीं से ढाई तीन लाख का इंतजाम कर देंगे। स्वाभिमानी मुकुंद ने आखिरकार फैसला किया कि वे अपने दम पर ही आईएएस बनकर दिखाएंगे। मुकुंद बताते हैं कि आईएएस बनने का मूल मंत्र कड़ी मेहनत है। 


मुकुंद झा, आईएएस अधिकारी 

मुकुंद झा की स्कूली शिक्षा

मुकुंद ने आवासीय सरस्वती विद्या मंदिर से पांचवीं तक पढ़ाई की। इसके बाद उनका एडमिशन सैनिक स्कूल गोलपाड़ा में हो गया जहां से उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई की। सैनिक स्कूल से पढ़ाई के बाद मुकुंद ने सैनिक स्कूल से ग्रेजुएशन की पढ़ाई की। 2019 में उन्होंने प्रीलिम्स दिया था। जिसके बाद पहले ही अटेम्प्ट में उन्होंने आईएएस की परीक्षा क्रैक की। 

रुटीन का कड़ाई से पालन किया

आईएएस की तैयारी के दौरान मुकुंद ने पढ़ाई का रुटीन बनाया था। जिसे उन्होंने सख्ती से पालन भी किया। पढ़ाई और आईएएस की तैयारी के दौरान उन्होंने सोशल मीडिया और फोन से पूरी तरह दूरी बना ली थी। फिल्में देखना और शादी ब्याह जैसे आयोजनों में जाना भी उन्होंने छोड़ दिया था। मुकुंद बताते हैं कि यूपीएससी की तैयारी के दौरान वो रोज ही 12 से 14 घंटे की पढ़ाई करते थे। मुकुंद ने टिप्स देते हुए कहा कि यूपीएससी के इंटरव्यू में ऐसे सवाल पूछे जाते है। जिससे पता चले कि कैंडिडेट अपने देश के बारे में कितनी जानकारी रखता है। 

यंगेस्ट आईएएस बनने वाले अंसार के पिता चलाते थे ऑटो

मुकुंद झा हालांकि देश के यंगेस्ट आईएएस बनने वाले शख्स नहीं हैं। ऑटो रिक्शा ड्राइवर के बेटे अंसार के नाम सबसे कम उम्र में आईएएस बनने का कीर्तिमान दर्ज है। महाराष्ट्र के जालना जिले के शेलगांव से ताल्लुक रखने वाले अंसार ने महज 21 साल की उम्र में आईएएस क्रैक किया था। साल 2015 में पॉलिटीकल साइंस विषय से अंसार ने यूपीएससी में 361वीं रैंक हासिल की थी। देश के अभी तक के सबसे यंग आईएएस ऑफिसर बनने का रिकॉर्ड अंसार के नाम ही है। 
 

Advertisement
Back to Top