क्या बिना मास्क कार में अकेले ड्राइव करते शख्स पर लग सकता है जुर्माना?

Know Whether mask is necessary while driving alone in Private vehicle  - Sakshi Samachar

निजी कार में क्या मास्क लगाना जरूरी? 

जानिए क्या कहते हैं कानूनी जानकार?

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) सहित विभिन्न राज्यों में सरकार ने सार्वजनिक स्थलों पर मास्क नहीं लगाने की स्थिति में 2000 रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान किया है। अब सवाल उठता है कि एक शख्स बंद एसी कार में बैठकर कहीं जा रहा है, तो क्या उसके लिए मास्क लगाना जरूरी है? अगर नहीं लगाया तो क्या संबंधित सरकारी एजेंसी के लोग उसका चालान काट सकते हैं? दरअसल दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) के वकील सौरभ शर्मा का कुछ इन्हीं परिस्थितियों में तब चालान काट दिया गया। जब वे बंद गाड़ी में बिना मास्क लगाए कोर्ट जा रहे थे। शर्मा ने इस बाबत हाईकोर्ट में केस कर दिया, जिसको लेकर दिल्ली सरकार से जवाब तलब भी किया गया। 

18 नवंबर को हाईकोर्ट (High Court) में दिए अपने हलफनामे में दिल्ली सरकार ने कहा कि सड़क पर कार को प्राइवेट व्हीकल (Private Vehicle) बताकर मास्क (Mask) लगाने से नहीं बचा जा सकता। वकील सौरभ शर्मा पर मास्क नहीं लगाने के चलते 500 रुपये का जुर्माना हुआ था। शर्मा ने कोर्ट में दलील दी थी कि सड़क पर चलती उनकी कार प्राइवेट स्पेस है। लिहाजा उनपर मास्क नहीं लगाने को लेकर जुर्माना नहीं किया जा सकता है। 

मास्क को लेकर कानूनी जानकार की राय

दिल्ली हाईकोर्ट में अधिवक्ता राहुल कुमार से हमने इस बारे में बात की। राहुल ने जस्टिस अशोक भूषण और के एम जोसेफ की खंडपीठ के साल भर पहले सुनाए फैसले का हवाला दिया। जिसमें साफ कहा गया था कि सार्वजनिक स्थानों से गुजरने वाले वाहनों को पब्लिक प्लेस की श्रेणी में रखा जाएगा। इस बारे में सुप्रीम कोर्ट ने बिहार राज्य के पक्ष में फैसला सुनाते हुए याचिकाकर्ता के इस तर्क को खारिज किया था कि उनकी कार पब्लिक प्लेस के दायरे से बाहर थी। सुप्रीम कोर्ट का ये अहम फैसला मास्क लगाने के मामले की पेजीदगियों को भी हल करता है। वकील राहुल कुमार ने समझाते हुए कहा कि अगर आप सड़क पर निजी वाहन से भी सफर कर रहे हैं तो भी ये आपका प्राइवेट स्पेस नहीं होगा, क्योंकि आप सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध सड़क का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसका साफ मतलब है कि गाड़ी के भीतर बैठकर भी आपको मास्क लगाना ही होगा। वरना आपके खिलाफ ठोंके गए जुर्माने को जायज करार दिया जा सकता है।  

दिल्ली सरकार के गाइडलाइन में क्या है? 

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते असर को देखते हुए सरकार ने सार्वजनिक स्थानों पर मास्क नहीं लगाने की स्थिति में 2000 रुपए जुर्माने का प्रावधान किया है। दिल्ली सरकार ने अपने आदेश में साफ किया है कि किसी भी व्यक्ति के लिए निजी और ऑफिस व्हीकल में भी मास्क लगाना जरूरी होगा। सरकार के ताजा आदेश के बाद किसी तरह की नानुकुर की गुंजाइश ही नहीं। 

लगातार मास्क लगाने से क्या है नुकसान? 

कुछ डॉक्टरों की राय है कि लगातार मास्क लगाने से भी शरीर में ऑक्सीजन की ठीक मात्रा नहीं पहुंच पाती है। लिहाजा एक्सपर्ट्स बताते हैं कि अगर आप निजी स्थान पर हों और अकेले हों तो मास्क लगाने की जरूरत नहीं है। मास्क का कपड़ा इस तरह का होना चाहिए कि सांस लेने में किसी तरह की कोई दिक्कत न हो। विदेशों में इस तरह के कई मामले सामने आए हैं जिसमें लगातार मास्क लगाने के चलते शख्स को गंभीर शारीरिक परेशानी का सामना करना पड़ा। तो हमारी राय यही है कि मास्क जरूर लगाएं, वहीं इसको लेकर समझदारी भी बरतें। 

अकेले कार चला रहे शख्स के लिए मास्क लगाना जरूरी? 

विभिन्न राज्य सरकारों को इस तरह की शिकायतें मिली कि अकेले कार चला रहे शख्स को मास्क नहीं पहनने के चलते चालान काटा गया। इसके मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्पष्टीकरण दिया है कि अकेले बैठकर कार चला रहे लोगों के लिए मास्क पहनना जरूरी नहीं है। इसी तरह अकेले साइकिल चला रहे व्यक्ति के लिए भी मास्क पहनने की अनिवार्यता नहीं होगी। इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा था कि 'स्वास्थ्य मंत्रालय ने जो दिशानिर्देश जारी किये हैं, उनमें यदि आप अकेले किसी कार को बैठकर कार चला रहे हैं, तो आपको मास्क पहनना है, इस बारे में कोई दिशा-निर्देश नहीं है।' 
 

Advertisement
Back to Top