बिहार चुनाव 2020 : RJD, कांग्रेस को एक और पार्टी दे सकती है झटका, महागठबंधन में फूट

Upendra Kushwaha Can Break Mahagathbandhan in Bihar Elections 2020 - Sakshi Samachar

महागठबंधन से अलग हो सकता है एक और दल

मांझी के बाद अब उपेंद्र कुशवाहा हो सकते हैं अलग

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन में टूट

पटना : बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले लगातार राजनीतिक समीकरण बदल रहे हैं। अब तक महागठबंधन के साथ खड़े रहने वाले साथी एक-एक कर अलग होते जा रहे हैं। पूर्व सीएम जीतन राम मांझी के बाद अब उपेंद्र कुशवाहा जल्द महागठबंधन की चुनावी नाव से उतर सकते हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि एक से दो दिन के अंदर उपेंद्र कुशवाहा बड़ी घोषणा कर सकते हैं।

आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा लोकसभा चुनाव 2019 में एनडीए का साथ छोड़कर महागठबंधन में शामिल हुए थे, लेकिन अब लग रहा है कि जल्द वह तेजस्वी यादव को झटका दे सकते हैं। हाल ही में जीतन राम मांझी महागठबंधन से अलग होकर एनडीए में शामिल हुए हैं।

महागठबंधन से नाराज उपेंद्र कुशवाहा ने 24 सितंबर को पार्टी कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बैठक के बाद पार्टी कोई बड़ा निर्णय ले सकती है। सीट बंटवारे को लेकर के उपेंद्र कुशवाहा लगातार कभी कांग्रेस के आलाकमान तो कभी तेजस्वी यादव से मुलाकात करते रहे हैं, लेकिन अब तक इन्हें कोई आश्वासन नहीं मिला है।

महागठबंधन में सीट बंटवारे पर है खींचतान

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपने बिहार दौरे पर नीतीश कुमार को एनडीए का सीएम कैंडिडेट घोषित करके स्पष्ट कर दिया है कि गठबंधन में कोई समस्या नहीं है। दूसरी तरफ महागठबंधन में अभी तक सीट बंटवारे से लेकर सीएम चेहरे तक किसी भी बात की आपसी सहमति नहीं बनी है।

बिहार में विपक्षी दलों के महागठबंधन में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के बाहर जाने के बाद अब सीट बंटवारे को लेकर कवायद शुरू हो गई है। इस मसले पर हालांकि फिलहाल कोई खुलकर नहीं बोल रहा है, लेकिन बड़े से लेकर छोटे दल भी बंटवारे में ज्यादा से ज्यादा सीटें पाने की फिराक में हैं।

राजद भी पिछले चुनाव से अधिक सीटों पर दावेदारी ठोकने का मन बना चुकी है। राजद के सूत्रों के मुताबिक, राजद इस चुनाव में राज्य की 243 सीटों में से 150 सीटों पर अपनी दावेदारी पेश कर सकती है। सूत्र तो यहां तक दावा कर रहे हैं कि राजद अपनी सीटों को चिह्नित कर कई क्षेत्रों में प्रत्याशियों को तैयार रहने के भी निर्देश दे दिए हैं।

मांझी ने थामा एनडीए का हाथ

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) इस साल होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल के रूप में चुनाव मैदान में उतरने जा रही है। 'हम' इससे पहले भी राजग के साथ थी, लेकिन बाद में राजद नेतृत्व वाले महागठबंधन का हिस्सा बन गई थी। बिहार की सियासत में दलित नेता के रूप में खुद को पेश करने वाले मांझी ने 2018 में राजग को छोड़कर महागठबंधन का दामन थाम लिया था, लेकिन महागठबंधन से भी पिछले दिनों उन्होंने नाता तोड़ लिया था।

Advertisement
Back to Top