पीएम की सर्वदलीय बैठक का ममता ने क्यों किया बहिष्कार ? जाने यहां

PM modi calls all party meeting to discuss corona  - Sakshi Samachar

पीएम मोदी ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

कोरोना संकट पर हो चर्चा संभव

तृणमूल कांग्रेस ने किया बहिष्कार

नई दिल्ली  :  कोरोना संकट पर अब तक सरकार की ओर से की गई तैयारियों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब विपक्ष को आधिकारिक तौर पर जानकारी देंगे। उन्होंने बुधवार आठ अप्रैल को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। प्रधानमंत्री मोदी इस बैठक को वीडियो कांफ्रेंसिंग से संबोधित करेंगे। संभावना जताई जा रही है कि बैठक में  देश में फैले कोरोना संकट पर चर्चा होगी। इस दौरान जहां सरकार की ओर से कोरोना को लेकर किये गये इंतजामों के बारे में जानकारी अन्य दलों को औपचारिक तौर पर दी जाएगी। वहीं अन्य दलों के लोगों से भी कोरोना से निपटने में मशवरा लिया जा सकता है।  जिससे कोरोना महामारी से निपटने में राज्यवार आवश्यक कदम उठाए जा सकें।  

तृणमूल कांग्रेस करेगी बैठक का बहिष्कार
तृणमूल कांग्रेस ने इस बैठक का बहिष्कार करने की बात कही है। तृणमूल कांग्रेस के सांसद और लोकसभा में पार्टी के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा कि उनकी पार्टी के सांसद सर्वदलीय बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे, क्योंकि पार्टी मुखिया ममता बनर्जी से सरकार ने संपर्क नहीं किया। माना जा रहा है कि बंगाल को आर्थिक पैकेज नहीं दिये जाने को लेकर ममता बनर्जी केन्द्र सरकार से नाराज हैं। आर्थिक पैकेज के लिये वो कई बार केन्द्र सरकार से मांग कर चुकी हैं। लेकिन उन्हे केन्द्र से फिलहाल कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला है। 

हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी नाराज
एक तरफ जहां तृणमूल कांग्रेस जहां बैठक का बहिष्कार कर रही है तो वहीं  एआईएमआईएम ने नाराजगी जताई है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये आठ अप्रैल को होने वाली इस सर्वदलीय बैठक में न बुलाए जाने पर हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने अपने एक बयान में इसे हैदराबाद का अपमान करार दिया है।

इसे भी पढ़ें :

देश में कोरोना से 124 मौत, संक्रमितों की संख्या पहुंची 4789 के पार​

बतादें कि बुधवार को बुलाई गई इस बैठक में कोरोना वायरस से जुड़े मुद्दे और लॉकडाउन पर चर्चा की हो सकती है। बैठक में पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये उन सभी पार्टी के लोगों से चर्चा करेंगे जिनके लोकसभा और राज्यसभा में कम से कम पांच सदस्य हैं 

Advertisement
Back to Top