शुरू हुई Corona Test के लिए ऑनलाइन बुकिंग सेवा, घर से कलेक्ट होगा सैंपल

Practo starts Online Corona Test with Thyrocare - Sakshi Samachar

कोरोना टेस्ट के लिए ऑनलाइन बुकिंग सेवा

प्रैक्टो के पैथोलॉजिस्ट घर आकर लेंगे सैंपल

24-48 घंटों में पता लगेगा आपका इंफेक्शन स्टेटस

नई दिल्ली: सरकार ने कोरोना के खिलाफ जंग में निजी भागीदारी को प्रोत्साहित किया है। इसी सिलसिले में ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श देने वाली कंपनी प्रैक्टो ने नई पहल शुरू की है। Practo अब  कोरोना वायरस के टेस्ट के लिए ऑनलाइन बुकिंग सेवाएं दे रहा है। अगर आपको तेज बुखार और सूखी खांसी जैसे लक्षण हैं और अस्पताल जाने से डर रहे हैं तो ये ऑनलाइन सेवा आपके काम की है। प्रैक्टो कंपनी ने इसके लिए थायरोकेयर से कोरोना टेस्ट में सहयोग के लिए अनुबंध किया है। भारत सरकार ने प्रैक्टो की इस पहल को अप्रूव भी कर दिया है। 

प्रैक्टो बंगलुरू की इकंपनी है जिसका भारत में ऑनलाइन फैसिलिटी देने में बड़ा नाम है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी ICMR ने प्रैक्टो की सेवाओं को मान्यता दी है। यूं तो प्रैक्टो की अन्य सेवाएं देशभर के लिए है, लेकिन कोरोना वायरस टेस्ट की सुविधा फिलहाल मुंबई वासियों को ही दी गई है। अगर ये प्रयोग सफल होता है और लोगों में लोकप्रिय होता है तो इसका प्रसार देश के बाकी राज्यों में भी किया जाएगा। 

आंध्र प्रदेश पुलिस का लोगों को जागरूक करने का अनूठा अंदाज हो रहा वायरल

ऑनलाइन कोरोना वायरस टेस्ट के लिए कुछ औपचारिकताएं भी निर्धारित की गई है। जिसके तहत डॉक्टर का वैलिड प्रेसक्रिप्शन होना जरूरी है। साथ ही रिक्विजिशन फॉर्म भी ऑनलाइन भरना होगा। फोटो आईडी कार्ड के साथ ही आपको प्रैक्टो को अपनी पहचान भी बतानी होगी। 

ऑनलाइन टेस्ट के लिए शुल्क 

प्रैक्टो ने सरकारी गाइडलाइन के मुताबिक कोरोना वायरस का शुल्क 4500 रुपए तय किया है। बुकिंग के बाद प्रैक्टो पैथोलॉजिस्ट आपके घर पहुंचेगा और सैंपल कलेक्ट करेगा। टेस्टिंग लिए स्वैब वायरल ट्रांसपोर्ट मीडियम के जरिए सैंपल कलेक्ट किए जाएंगे। इसे कोल्ड चेन में थायरोकेयर लैबोरेटरी भेजा जाएगा जिसे Covid-19 टेस्टिंग के लिए चुना गया है। टेस्ट के नतीजे आने में 24-48 घंटों तक आपको इंतजार करना पड़ सकता है। 

दरअसल लक्षणों के बावजूद बड़ी संख्या में अभी भी लोग अस्पतालों में जाने से डर रहे हैं। उन्हें लगता है कि उनकी बीमारी मौसमी है और अस्पताल जाकर बेवजह वे दूसरे मरीजों के जरिए कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। सीमित संसाधनों के साथ सरकार के लिए मुमकिन नहीं कि वो घर घर जाकर कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल ले सके। ऐसे में निजी कंपनी की इस पहल का लोग स्वागत कर रहे हैं। 

Advertisement
Back to Top