सरकारी अस्पताल में बच्ची का शव नोच रहे कुत्ते, वायरल हुआ रोंगटे खड़े कर देने वाला वीडियो

Dog Eating Girl Dead body in Sambhal Government Hospital UP - Sakshi Samachar

उत्तर प्रदेश के संभल की घटना

सरकारी अस्पताल का वीडियो वायरल

स्ट्रेचर पर पड़े बच्ची के शव को नोंच रहे कुत्ते

संभल : सरकारी अस्पताल का हाल किसी से छुपा नहीं है। योगी सरकार के मंत्री अस्पताल और स्वास्थ्य सेवाओं के सुधारने के दावे समय-समय पर करते रहते हैं, जिसकी पोल एक वायरल वीडियो खोल रहा है। उत्तर प्रदेश के संभल जिले के एक सरकारी अस्पताल के अंदर एक बच्ची के शव को आवारा कुत्ते द्वारा नोंचने का एक चौंकाने वाला वीडियो सामने आया है।

घटना गुरुवार की है। सड़क दुर्घटना के बाद लड़की को अस्पताल लाया गया था, जिसकी बाद में मौत हो गई। इस मामले में अस्पताल के अधिकारियों ने दो कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। दोनों कर्मचारी उस दिन बड़ी संख्या में आए शवों का ध्यान नहीं रख सके। सामाजवादी पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर वीडियो शेयर करते हुए सरकार पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं। समाजवादी पार्टी ने जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए 20 सेकेंड के वीडियो में देखा जा सकता है कि अस्पताल में एक अलग-थलग पड़े स्ट्रेचर पर पड़े एक सफेद कपड़े से ढके हुए शव को एक कुत्ता नोंच रहा है। पीड़िता के परिवार ने लापरवाही के लिए अस्पताल को दोषी ठहराया है जबकि अस्पताल प्रशासन ने आवारा कुत्तों की समस्या को स्वीकार किया है। लड़की के पिता चरण सिंह ने संवाददाताओं से कहा, "बच्ची को डेढ़ घंटे तक बिना देखे छोड़ दिया गया था। यह अस्पताल की लापरवाही है।"

अस्पताल के एक डॉक्टर सुशील वर्मा ने कहा, "शव को औपचारिकता के बाद परिजनों को सौंप दिया गया। वे पोस्टमार्टम नहीं चाहते थे और इसे ले जा रहे थे। घटना घटित होने के बाद शायद एक मिनट के लिए शरीर को छोड़ा गया था, इसी बीच यह हुआ। 

अस्पताल के एक स्वीपर और वार्ड ब्वॉय को निलंबित कर दिया गया है और मामले में एक जांच समिति बनाई गई है। अस्पताल के अधिकारियों ने कहा, "जांच के बाद हमें पता चला कि स्वीपर और वार्ड ब्वॉय जिम्मेदार थे। उन्हें बहुत सारे शवों को देखना था। हालांकि, हमने उन्हें निलंबित कर दिया है और हमने उस डॉक्टर से स्पष्टीकरण मांगा है जो फार्मासिस्ट के साथ आपातकालीन ड्यूटी पर था। हमने मामले की जांच के लिए एक समिति भी बनाई है।"

Advertisement
Back to Top