बल्लभगढ़ हत्याकांड : आरोपी तौसीफ ने कबूल किया गुनाह, पुलिस के सामने किया बड़ा खुलासा

Ballabhgarh Murder Case Accused Taushif Accepted Crime - Sakshi Samachar

हरियाणा के बल्लभगढ़ में युवती की हुई थी हत्या

हत्या के मामले में दोनों आरोपी हुए गिरफ्तार

लड़की से जबरदस्ती शादी करना चाहता था तौसीफ

फरीदाबाद : हरियाणा के बल्लभगढ़ में सोमवार को दिनदहाड़े 21 साल की एक युवती की हत्या के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। घटना के वक्त छात्रा कॉलेज से अपने घर वापस जा रही थी। मुख्य आरोपी की पहचान सोहना रोड निवासी तौसीफ के रूप में हुई है और दूसरे आरोपी की पहचान नूंह जिले के रेहान के रूप में हुई है। दोनों आरोपियों को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसे दो दिनों की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, "कस्टडी रिमांड के दौरान, हत्या के लिए इस्तेमाल हथियार, वाहन इत्यादि को बरामद किए जाएंगे उनसे घटना के कारण का भी पता लगाया जाएगा।" हालांकि पीड़िता के परिवार ने दावा किया है कि मुख्य आरोपी पीड़िता को पसंद करता था और वह उसका प्रपोजल बार-बार ठुकरा रही थी, जिससे गुस्से में आकर उसने पीड़िता की हत्या कर दी। एक अन्य आरोपी उसका सहयोगी था।

तौसीफ ने कबूल किया गुनाह

आरोपी तौसीफ ने पूछताछ में अपना गुनाह कबूल कर लिया है। उसने बताया कि निकिता किसी और से शादी करने वाली थी, उसे यह बात नागवार गुजरी और उसने उसकी हत्या कर दी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तौसीफ ने यह भी कबूला कि 24 और 25 तारीख की दरमियानी रात में दोनों के बीच लंबी बातचीत हुई थी। 

शादी के लिए जबरदस्ती बना रहा था दबाव

परिजनों का कहना है कि तौसीफ निकिता से जबरदस्ती शादी करना चाहता था। वह लगातार दबाव बना रहा था, जबकि निकिता बार-बार इनकार कर रही थी। सोमवार शाम को लड़की पेपर देकर बाहर निकल रही थी, तभी तौसीफ आया और जबरदस्ती गाड़ी में खींचने लगा। जब लड़की नहीं मानी तो उसने गोली मार दी।

राजनीतिक रसूखदार है आरोपी का परिवार

मुख्य आरोपी तौसीफ के दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं, जबकि चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री रहे हैं। वहीं, एक अन्य रिश्तेदार आफताब अहमद वर्तमान में कांग्रेस के नूंह (मेवात) विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं और भूपेंद्र सिंह हुड्डा सरकार में परिवहन मंत्री भी रहे हैं। तौसीफ के चाचा जावेद अहमद ने भी 2019 में सोहना विधानसभा क्षेत्र से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गए थे। 

Advertisement
Back to Top