अयोध्या विवादित ढांचा विध्वंस केस में 27 साल बाद तय हुई फैसले की तारीख, भाजपा के कई नेता हैं आरोपी

Babri Masjid Demolition Case CBI Court Will Pronounce Verdict - Sakshi Samachar

अयोध्या का विवादित ढांचा विध्वंस केस

27 साल बाद 30 सितंबर को आएगा फैसला

आडवाणी, जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह का नाम है शामिल

नई दिल्ली : अयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस केस में लखनऊ की स्पेशल सीबीआई कोर्ट 27 साल बाद 30 सितंबर को अपना सुनाएगी। इस केस में सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में 49 लोगों को आरोपी बनाया था। आरोपियों में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह, विनय कटियार जैसे भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के नाम शामिल हैं। 

49 आरोपियों में अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें बाला साहेब ठाकरे, अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, विष्णुहरी डालमिया भी इस केस में आरोपी थे, जिनकी मौत हो चुकी है। अब 32 आरोपियों पर 30 सितंबर को फैसला सुनाया जाएगा। 

दो सितंबर से लिखा जा रहा है फैसला

बाबरी विध्वंस मामले की सुनवाई कर रही विशेष सीबीआई अदालत में सभी पक्षों की दलीलें, गवाही, जिरह सुनने के बाद सुनवाई पूरी कर ली गई। मामले की सुनवाई की रहे न्यायाधीश ने बुधवार, दो सितंबर से अपना फैसला लिखना शुरू कर दिया है। इससे पहले वरिष्ठ वकील मृदल राकेश, आईबी सिंह और महिपाल अहलूवालिया ने आरोपियों की तरफ से मौखिक दलीलें पेश की, इसके बाद सीबीआई के वकीलों ललित सिंह, आर.के. यादव और पी. चक्रवर्ती ने भी मौखिक दलीलें दीं। दोनों पक्षों की दलीलें पेश होने के बाद विशेष न्यायधीश एस.के. यादव ने फैसला लिखवाना शुरू किया।

351 गवाहों और लगभग 600 दस्तावेज पेश

दशकों पुराने इस मामले में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, साक्षी महाराज,साध्वी रितंभरा, विश्व हिंदू परिषद नेता चंपत राय सहित 32 आरोपी हैं। अभियोजन पक्ष सीबीआई आरोपियों के खिलाफ 351 गवाहों और लगभग 600 दस्तावेज प्रस्तुत कर चुकी है। 

न्यायधीश को इस मामले में उच्चतम न्यायालय द्वारा निर्धारित समयानुसार इस माह के अंत तक फैसला सुनाना था। गौरतलब है कि बाबरी मस्जिद को कार सेवकों ने दिसंबर 1992 में ढहाया था। उनका दावा था कि अयोध्या में यह मस्जिद भगवान राम के एतिहासिक राम मंदिर के स्थान पर बनायी गयी थी। 

Advertisement
Back to Top