क्या है एस्मा, जिसे योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में कर दिया है लागू

Yogi Adityanath Government has implemented ESMA in UP - Sakshi Samachar

योगी सरकार ने 6 महीने के लिए लगाया एस्मा

बढ़ते कोरोना मामलों को माना जा रहा एक वजह

हड़ताल पर नहीं जा सकेंगे सरकारी कर्मचारी

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश (UP) की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार ने अगले छह महीने तक प्रदेश में किसी भी सरकारी विभाग (Government department), सरकार के नियंत्रण वाले निगम और प्राधिकरणों आदि में हड़ताल करने पर रोक लगा दी है। प्रदेश सरकार ने अत्यावश्यक सेवाओं को जारी रखने के लिए बनाए गए कानून एस्मा (ESMA) को राज्य में लागू कर दिया है।

राज्य में एस्मा लगाए जाने के संबंध में अपर मुख्य सचिव कार्मिक मुकुल सिंघल ने अधिसूचना जारी कर दी है। आदेश के बाद कर्मचारी 6 महीने तक (25 मई तक) हड़ताल पर नहीं जा सकेंगे। प्रदेश में एस्मा कानून लागू किए गए जाने का एक कारण लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों को माना जा रहा है। गौरतलब है कि बीते सोमवार योगी सरकार ने एक आदेश जारी करते हुए शादी समारोहों में शामिल होने वाले लोगों की संख्या सीमित कर दी थी। 

क्या है ESMA
एस्मा एक ऐसा कानून है जिसके लागू होने के बाद कोई भी सरकारी कर्मचारी हड़ताल पर नहीं जा सकता है। यह कानून आवश्यक सेवाओं के रखरखाव और समुदाय के सामान्य जीवन के लिए प्रदान करने के लिए बनाया गया कानून है। इस कानून को लागू करने से पहले कर्मचारियों को किसी समाचार पत्र, नोटिस के जरिए या किसी और माध्यम से सूचित किया जाता है। यह कानून 6 महीने के लिए लगाया जाता है। 

इसे भी पढ़ें : 

पंजाब में 1 दिसंबर से नाइट कर्फ्यू का ऐलान,नियमों तोड़ने वालों से वसूला जाएगा दोगुना जुर्माना

इस कानून के लागू होने के बाद अगर कोई कर्मचारी हड़ताल पर जाता है, तो इसे दंडनीय अपराध माना जाता है। वैसे तो यह एक केंद्रीय कानून है लेकिन इसे लागू करने की स्वतंत्रता राज्य सरकार के पास भी होती है। इस कानून के लगाए जाने के बाद हड़ताल पर गए कर्मचारी को बिना किसी वॉरंट के गिरफ्तार किया जा सकता है। इसके साथ ही हड़ताल पर गए कर्मचारी को 6 महीने की जेल या 250 रुपये जुर्माना या दोनों हो सकते हैं।

Advertisement
Back to Top