क्या शाहीन बाग में सीएए का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारी भी हो चुके हैं कोरोना संक्रमित!

What is the connection between Nizamuddin Markaj and Shaheen Bagh - Sakshi Samachar

मरकज जमात और शाहीन बाग, दोनों का बनता था हिस्सा

मरकज जमात में शामिल होने आया था युवक

तुम धरना दो हम यहीं बैठकर करेंगे दुआ

धरने के वीडियो क्लिप खंगालेगी दिल्ली पुलिस

नई दिल्ली : निजामुद्दीन स्थित 'मरकज' और 'तबलीगी जमात' के मुखिया मौलाना साद की पड़ताल कर रही दिल्ली पुलिस के सामने एक नया चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है। पुलिस को शक है कि दिल्ली और आस-पास के इलाकों में सीएए के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शनों का इस मरकज कांड के साथ कनेक्शन हो सकता है। दरअसल, दिल्ली पुलिस के हाथ एक ऐसा सबूत लगा है जिससे यह आशंका बलवती होती है कि शाहीन बाग और सीएए के विरोध प्रदर्शनों का हिस्सा रहे लोग भी कोरोना संक्रमित हो सकते हैं।

मरकज जमात और शाहीन बाग, दोनों का बनता था हिस्सा
असल में दिल्ली पुलिस ने जब मरकज और शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों की वीडियो क्लिप खंगालनी शुरू की तो प्राथमिक जांच में एक ऐसे युवक की पहचान की गई, जो शाहीन बाग में अक्सर धरने में शामिल होता था और उस मरकज जमात का भी हिस्सा था। हालांकि, फिलहाल युवक अंडमान स्थित अपने घर लौट चुका है। सूत्रों की मानें तो पिछले दिनों 'शाहीन बाग' धरने में आने वाले तीन लोगों के भी कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हो चुकी है। इसलिए यह आशंका और भी प्रबल हो जाती है।
 
मरकज जमात में शामिल होने आया था युवक
पुलिस की जांच में सामने आया है कि अंडमान निकोबार निवासी एक युवक मरकज जमात में शामिल होने आया था। जब पुलिस ने उस युवक की पहचान की तो यह तथ्य भी सामने आया कि वह युवक शाहीन बाग में हो रहे सीएए विरोधी धरने में अक्सर शामिल होता था। ऐसे में इस आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता कि ये लोग शाहीन बाग, हौजरानी, निजामुद्दीन बस्ती, जामिया मिल्लिया इस्लामिया समेत दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में चल रहे सीएए विरोधी धरनों में गए हों और वहां जान-बूझकर लोगों को कोराना का संक्रमण दिया हो।

यह भी पढ़ें : कोरोना से दो-दो हाथ करने की है सेना की तैयारी, ऐक्शन में हैं तीनों सेनाएं​

तुम धरना दो हम यहीं बैठकर करेंगे दुआ
सीएए के विरोध में निजामुद्दीन बस्ती में किए गए धरने के एक आयोजक ने बताया कि उन लोगों ने मरकज में रहने वाले परिवारों व जमातियों से अनुरोध किया था कि वे लोग भी सीएए विरोधी धरने में शामिल हों। लेकिन उन लोगों ने यह कहकर मना कर दिया था कि तुम लोग धरना दो, हम लोग यहीं बैठकर दुआ करेंगे कि सीएए व एनआरसी वापस हो जाए। 

धरने के वीडियो क्लिप खंगालेगी दिल्ली पुलिस 
अब पुलिस धरने के दौरान वहां से सामने आए वीडियो को भी देखगी जिससे उसमें शामिल होने वाले जमात के लोगों की पहचान की जा सके। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि अगर ऐसे लोग जो जमात में आए थे और धरनों में शामिल हुए थे, की पहचान हो जाती है, तो उन पर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें :  'कोरोना से जंग' में जीत का डिगने न दें आत्मविश्वास, क्योंकि सेना है अब आपके साथ

Advertisement
Back to Top